लॉकडौन में भाई बना सेक्स का सहारा

Bhai Bahan Sex Story – हेल्लो दोस्तो मै अंजलि आप सभी हिन्दी सेक्स स्टोरी पढ़ने वालो के साथ मैं भी अपनी भाई के साथ जो इस लॉकडौन मे चुदाई की हूँ उसी की दास्तां लिखने वाली हूँ। आज से पहले मैंने कभी कोई सेक्स स्टोरी नही लिखी थी। लेकिन मैं सेक्स की स्टोरी पढ़ने की बहोत शौकीन हूँ। खास कर अन्तर्वासना और कामवासना की कहानियां जो बहोत मज़ेदार होती है।तो अब मैं अपनी कहानी के ऊपर आगे बढ़ती हूँ।

मैं अपनी फैमिली के साथ रहती हूँ। मेरे घर मे पापा मम्मी दादा दादी और एक छोटा भाई है। हमारा घर उतना भी बड़ा नही था कि सबका अपना कमरा हो। इसलिए मेरा और मेरे भाई के एक ही रूम था बस बेड अलग था। ये सब तो मेरी फैमिली के मेम्बर हुए मेरा एक बॉयफ्रैंड भी है जिसके साथ मैंने सेक्स भी किया है। एक बार नही बहोत ही बार किया है जब कॉलेज जाती हो उसी बहाने उसके रूम में चली जाती थी।

लेकिन हुआ ये की मार्च 2020 से कोरोना के करना पूरे देश भर में लॉकडौन हो गया। अब मेरा बाहर आना जाना बंद हो गया था। साथ मे मेरी चुदाई के मज़ा भी बंद हो गया था। कुछ दिन तो मैंने बर्दाश कर लिया लेकिन 1 महीने बीतने के बाद चूत में खल बलि मच गई थी। लेकिन कोई उपाय नही था बाहर जाने का और जाती तो अकेले नही जा सकती थी।

मैं एक दिन अपने रूम में लेती हुई सेक्स की कहानी पढ़ रही थी तो मैं भाई बहन की सेक्स की कहानी पढ़ने लगी। मेरे मन मे ख्याल आया कि भाई के साथ भी कोई सेक्स करती है क्या, मैं सोची नही फिर भी मेरा भाई छोटा है। वो अभी 16 का है और मैं 20 की हूँ। एक दिन सुबह सुबह मैं उठ गई थी लेकिन भाई सोया हुआ था मम्मी बोली उसे उठा देने के लिए।

मैं जब उसे उठाने के लिए गयी तो सीधा लेता हुआ था। मैं तो देख के दंग रह गयी उसके पैंट में तो तम्बू बना हुआ था। उसका लण्ड खड़ा था वो सो रहा था। मेरा मन किया कि एक बार इसका लण्ड निकाल के देख लू। लेकिन फिर मैंने उसे आवाज दिया वो उठ गया उसे महसूस हुआ कि उसका लण्ड खड़ा है। वो पैरों के बीच में लण्ड दबा लिया और बोला तुम चलो मैं आता हूँ। मैं हस के चली गईं मेरा भाई सरमा गया था।

मैं ये तो समझ गयी थी कि उसका लण्ड अब बड़ा हो गया है। उसके पैंट के उभार से पता चल रहा था। मैं सोच लिया कि अब इस लॉकडौन मे मेरी चूत का प्यास मेरा भाई ही बुझा सकता है। अब बस उसे सेक्स के लिए राजी करना जरूरी था। तो उसी दिन जब हम सोने को आये तो मैं भाई के बेड पे चली गयी। वो मोबाइल चला रहा था उसे मज़ाक करने लगी कि गर्लफ्रैंड से बात कर रहे हो।

मैं उसे छेड़ने लगी थी। मैंने पहले से जान के अपनी ब्रा और पेंटी खोल दी थी और एक ढीली टीशर्ट पहन ली थी। हम दोनों जो गुदगुदी करने लगे। उसका हाथ मेरी चुचियो पे लग गया था। उसने हाथ झटक लिया। मैंने उसका हाथ पकड़ लिया और अपनी चुचिया पर रख दिया। बोला तुम चाहो तो इससे खेल सकते हो। अब उसका लण्ड खरा हो सकता है तो अरमान तो उसके भी जाग सकते है।

वो मेरी चुचियो को कस के दबा दिया। मैं सिहर उठी बोली भाई आराम से दर्द भी होता है। अब वो मेरी चुचियो को धीरे धीरे दबा रहा था मैंने अपना हाथ उसकी पैंत में डाल दिया। उसका लण्ड खरा हो गया था मैं उसका लण्ड पकड़ ली। मैं उसके लण्ड को सहला रही थी और एओ मेरी चुचियो को दबाए जा रहा था।

तब मैंने अपना और उसका टीशर्ट उतार दिया। वो बोला कि हम जो कर रहे सही नही है मैं बोली कि तुम बस मेरा साथ देते जाओ आगे तुम्हे भी जन्नत की सैर करा दूंगी। मैं उसे किस करने लगी थी वो मुझे हग कर के किस किये जा रहा था। हम दोनों एक दूसरे से लिपट के किस करने में लगे हुए थे। वो किस करते करते मेरी गर्दन से होता हुआ मेरी चुचियो पे चला गया और मेरी चुचियो को दबा के चुसने लगा।

मेरा भाई पतला दुबला था लेकिन उसका लण्ड बहोत तगड़ा था। अब मैंने बोला कि सिर्फ ऊपर ही चूसते रहोगे की आगे भी करोगे। तब मैंने उसकि पैंट को खोल दिया फिर उसकी चडू भी खोला। उसका लण्ड 6 इंच से कम नही होगा। उसके लण्ड के बगल में बहोत बाल थे तो मेरा मन चुसने को नही हुआ। लेकिन उसने जबर्दस्ती लण्ड को मुह में दे दिया।

मुझे उसे चूसना पर गया था। वो अपने लण्ड को ठीक से साफ नही करता था इसलिए अजीब लग रहा था। थोरे देर लण्ड मुह में लेने के बाद मैंने अपनी स्कर्ट को भी उतार दिया। वी मेरी चूत में उंगली सहला रहा था। मुझे बहोत अच्छा लग रहा था। मैं और तेज़ी से लण्ड चुसने लगी थी उससे कंट्रोल नही हुआ और वो मेरी मुह में ही झर गया।

मैं सब माल को जमीन पे थूक दी थी।मेरा मन अजीब कर दिया उसने उसे बोली कि बाहर गिरा देता। अब अंदर डालोगे और अंदर गिर गया तो मैं प्रेग्नेंट हो सकती हूँ और अभी तो दवा भी नही ले सकती हूँ। वो बोला कि अब नही होगा। फिर वो मेरी चूत को चटने लगा था। मैं भाई के सर लेके चूत में धकेल रही थी। वो जीभ को अंदर डाल दे रहा था।

मैंने उसका सर हटाया और चूत से पानी छोड़ दिया। अब हम दोनों लिप्त के किस कर रहे थे। वो मेरी चुचिया भी डाब रहा था। कुछ देर में उसका लण्ड खड़ा हो गया और मेरे भी मूड बन गया था। मैंने बोला जा अब निचे कर दे मेरी चुदाई। वो मेरी चूत पे गया और लण्ड रख दिया और अंदर डाल लण्ड आराम से धीरे धीरे घुस गया।

उसके बाद तो भाई जो मेरी चुदाई में लगा। मैं तो बस मुह बन्द कर के सहन कर रही थी। मेरी उम्मीद से ज्यादा उसके अंदर दम था। एक तो उसका लम्बा लण्ड जैसे लगता कि मेरी नाभि में जा रहा है। ऊपर से उसका वो जोरदार चुदाई मेरी तो हाल ख़राब कर दी उसने, मैं झर गयी थी लेकिन वो तो बस अपने मूड में था। लगातार चोदे जा रहा था कुछ देर के बाद वो झरने वाल था तो वो बोला कहा गिरा दु।

तो बोली कही भी बस अंदर नही गिरा देना। वो लण्ड निकाल के मेरी डोरी में झर दिया। थोरे देर दोनो आराम कर रहे थे क्योंकि की वो भी हाफ रहा था और मेरा तो हाल खराब हो रखा था। लेकिन उस दिन मुझे भी अपने अंदर की कामवासना को खत्म करना था। मैं हिला हिला के उसका लण्ड फिर से खड़ा की और अब उसे नीचे लेटा के उसके ऊपर आ गयीं।

मैं भाई के ऊपर चढ़ के चुद रही थी। मुझे ऐसे चुदने में मज़ा भी आ रहा था। उस रात हमने 5 बार सेक्स किया भाई मेरी अलग अलग तरह से चुदाई कर दिया था। मेरी चूत की आग को सांत कर दिया था। हम दोनों थक गए थे वो मेरे ऊपर ही लेता हुआ था। तब मैं भाई से लिपट के नंगे सो गई। उस रात के बाद तो मैं रोज लॉकडौन के बाद भी चुदाई का लुफ्त लेने लगी थी। रोज रात को हम भी भाई बहन नंगे सोते थे।

कैसी लगी आप सबको मेरी कहानी जरूर बताना। अगली कहानी में बताऊंगी की कैसे मैंने लॉकडौन के बाद मैंने भाई और बॉयफ्रैंड दोनो के साथ सेक्स किया। मैं भाई और बॉयफ्रेंड के साथ थ्रीसम का मज़ा ली हूँ।

Some New Sex Story In Hindi

Leave a Comment