कॉलेज गर्ल के साथ फर्स्ट टाइम सेक्स

First Time Sex – नमस्ते दोस्तो, मैं विनोद आज आपके सबके साथ मैं अपनी एक सेक्स की सच्ची घटना शेयर करने जा रहा हु। इस कहानी को मैंने इसलिए लिखा क्योंकि मैं बहोत दिनों हिन्दी सेक्स कहानिया पढ़ता आ रहा हूँ। तो मेरे भी मन मे ख्याल आया आज अपनी भी कहानी आप सबको बतायी जये । मैं पहली बार सेक्स कहानी लिखने जा रहा हु तो कोई गलती हो जये तो माफ करना ,और कमेंट में जरूर बताना की मेरी स्टोरी कैसी लगी आप सबको, तो चलिए अब कहानी पे आते है।

मेरी उम्र तो अभी 28 साल है,लेकिन ये बात 6 साल पुरानी है। मेरे कॉलेज के दिनों की जब मैं पूरी तरह से जवान हो चुका था। सुरु से ही मैं पढ़ने में अच्छा रहा हूँ। इसलिए मेरी रुचि सिर्फ पढाई में रही है, तो मेरा ध्यन लड़कियो पे उतना नही जाता था। वैसे भी मैं 12 तक लड़को के स्कूल में पढ़ा तो लड़की से तो मेरा दूर तक नाता नही था।

12 की पढ़ाई खत्म करने के बाद मैं कॉलेज में गया,जहाँ सुन्दर सुन्दर लड़कियां मुझे देखने को मिली। मेरे लड़के में तो बहोत दोस्त थे,लेकिन मैं किसी लड़की से बात नही कर पाता था। मेरी हिम्मत ही नही होती थी कि मैं उन में से किसी से बात करू। किसी को पटाने की बात तो दूर की थी।

एक दिन मेरा ध्यन मेरे क्लास की एक लड़की पे गया। वो तो मुझे एक नज़र में पसन्द आ गयी थी। वो क्लास की सबसे सुंदर लड़की थी। उसका नाम स्मिता था।। उसकी सुंदरता सब्दो में नही बतायी जा सकती वो इतनी सुंदर थी। मैं जब भी क्लास में जाता तो मेरा ध्यन बस उसी पे रहता था। मैं ही नही बल्कि क्लास के बहोत सारे लड़के उसके आगे पीछे घूमते रहते थे। साथ मे वो बहोत पैसे वाले कि बेटी भी थी। तो कोई भी उसे चेर नही सकता था क्योंकि वो कार से अति और कार से जाती थी। मेरा तो उससे बात करने का हिम्मत भी नही हुआ। स्मिता जैसे मेरी क्रश बन गयी थी।

अब मैं तो क्लास में पढ़ने में सबसे अच्छा था, तो कॉलेज में पढ़ाई गयी सारी बाते मुझे समझ आ जाती थी। मैं अपना असाइनमेंट भी हमेसा टाइम पे कर लेता था। एक दिन क्लास में जो असाइनमेंट मिला एओ सिर्फ मैंने किया था, और किसी ने नही तो उस वजह से सबको डाट लगी। साथ मे सर ने सबसी भी दी।

मैं स्मिता को हमेसा नोटिस करते रहता था और ये एहसास उसे भी हो गया था सायद की मैं उसे नोटिस कर रहा हु। एक दिन क्लास खत्म हुआ, तो अचानक स्मिता ने मुझे कॉलेज के गेट पे रोक दिया।। मुझे लगा कही मैं जो उसे देखता रहता हूं उसे लेके वो कहि कुछ बोल ने दे। लेकिन वो मुझसे बोली कि तुम कैसे सारी असाइनमेंट बना लेते हो। क्या तुम मेरी हेल्प कर दोगे असाइनमेंट पूरी करने में। मुझे क्लास में डाट सुन के बहोत बुरा लगता है। मैंने बोला हा क्यों नही, जब तुम बोलो। अंदर ही अंदर मेरा दिल ढक ढक कर रहा था। जिससे मैं इतने दिनों से बात करने की सोच रहा था आज वो खुद मुझे सामने से बात कर रही है। वो बोली क्या सोचने लगे, तुम अपना नम्बर दे दो मैं तुमसे कॉल पे बात कर लुंगी।

उसके बाद तो मैं घर आ गया,लेकिन मुझे इंतज़र था कि कब वो कॉल करेगी। मेरे ध्यन तो बस मोबाईल पे ही था। शाम के 6 बजे मेरा फ़ोन बजा, मैं हेलो बोला उधर से आवाज आई हेलो मैं स्मिता बोल रही हु। उसकी वो सुरीली आवाज सुन के क्या आनंद मिल रहा था। मैं कहा है बोलो, तो वो बोली कि मैं कॉलेज में तुमसे बात नही की क्योंकि सब लड़के मेरी ओर घूरते रहते थे। तुम मेरी हेल्प कर दो पढ़ाई में मुझे कुछ समझ नही आता है। मैंने बोला हेल्प तो मैं कर दूंगा लेकिन फ़ोन पे, तो वो बोली अगर तुम्हें दिक्कत न हो तो कल कॉलेज के बाद से मेरे घर आ जया करो। मुझे तो विस्वास नही हो रहा था कि वो मुझे अपने घर बुला रही है।

अगले दिन मैं कॉलेज के बाद घर आया तो उसमें कॉल किया और बोला कि तुम 4 बजे आ जाना और अपना एड्रेस मैसेज कर दिया। मैं एकदम टाइम से रेडी होक उसके घर पाउच के कॉल किया वो मुझे रिसीव करने गेट पे आयी। मैं तो उसे देख के ही दीवाना होने लगा। वो शॉर्ट स्कर्ट और एक टीशर्ट पहनी हुई थी ।

जिसमे उसके बूबस झूलते हुए आ रहे थे। वो नज़ारा देख मेरे दिल मे तो हलचल मच गई।उसका घर तो बहोत ही बड़ा था। वो एक बहोत बारे बंगलो में रहती थी। वो मुझे लेके अंदर गयी और अपने मम्मी पापा से मिलाया। मैं उनका पैर छू के प्रणाम किया जिससे उन्हें लगे कि मैं अच्छा लड़का हु। फिर वो बतायी की मैं उड़के पढ़ाई में हेल्प करने आया हूं। फिर हम गेस्ट रूम में बैठ के पढ़ने लगे।

अब रोज मैं उसके घर जाने लगा, धीरे धीरे हमारी बहोत अच्छी दोस्ती हो गई। कॉलेज में किसी पता नही था कि हम बात करते है, बस एक दूसरे को देख के स्माइल देते थे। हम रोज रात को फ़ोन पे बात करते थे । मैं तो उसे पसन्द करता ही था, और धीरे धीरे वो मेरे करीब आते जा रही थी। अपनी सारी बाते मुझसे बताती थी। रोजाना की तरह एक शाम मैं उसके घर टाइम से चल गया और उसके साथ पढ़ने लगा। थोरे देर बाद उसके पापा आये और बोले बेटा तुम पढ़ाई करो हम थोरे देर में मार्केट से आते है। हम पढ़ रहे थे कि कुछ देर बाद स्मिता बोली आज बस अब रहने दो अब मेरा मन नही है। मैं भी छोर दिया और बोला मैं जाता हूँ, तो वो बोली कि चलो आज मैं तुम्हे अपना घर दिखाती हु।

उसके बाद मैं उसके साथ गया पूरा घर बहोत ही अच्छा था। तब वो अपने रूम में ले गयी और बोली यही बैठो हम बात करने लगे। वो मुझे पूछी तुम्हरी कोई गर्लफ्रैंड है। मैं बोला नही , तो बोली कि तुम इतने स्मार्ट हो पढ़ाई में अच्छे हो कोई बुरी आदत नही फिर क्यों नही है। मैं कुछ बोला नही उससे पूछा तुम्हरा कोई बॉयफ्रैंड होगा जरूर।

तो उसने भी कहा नही जी कोई नही है, बस मैं भी बोल की तुम इतनी खूबसूरत हो कॉलेज की सबसे सुन्दर लड़की ऊपर से तुम्हरे पीछे कितने लड़के है। वो बोली नही मैं किसी और को पसन्द करती हूं। मैं हैरान होके बोला कौन है वो, बस वो मेरे गले लग गयी और बोली वो तुम हो । ई लव यू विनोद। मुझे तो कुछ पल विस्वास नही हुआ। मैं भी उससे बोला स्मिता मैं भी तुम्हे बहोत पसंद करता हूँ, लेकिन कभी हिम्मत नही हुई।

उसके बाद मैंने भी उसे ई लव यू तू बोला, हम दोनों एक दूसरे की आँख में देखने लगे। और बस दोनो एक दूसरे को किस करने लगे। हम दोनों एक दूसरे को बेताब होक चूमें जा रहा थे। मैं किस करते करते उसके बेड पे लेट गया। उसे अपनी बाहों के भर के उसे चूमे जा रहा था। कभी मैं उसके सिर पे कभी गर्दन पे तो कभी गाल पे चुम रहा था। हम दोनों के होठ एक दूसरे से मिल के किस किये जा रहे थे। उसकी साँसे मेरी साँसों में समा रही थी। किश करते हुए मुझे महसूस हुआ कि मेरा लण्ड खरा हो गया है। मेरा ऊपर कामवासना चढ़ गई थी।

मेरा एक हाथ स्मिता के बूबस के ऊपर गया और मैं उसे सहलने लगा। उसने कुछ नही बोला और मेरे साथ किस किये जा रही थी। तब मैंने उसे दबाना सुरु कर दिया। जब जब मैं जोर से दबाता तो उसके मुह से आह ऊह की आवाज निकल जाती। अब मेरा मूड़ पूरी तरह बन गया था। उसकी बूबस को मैं दोनो हाथ से दबाने लगा और वो मौन करने लगी थी।

अब मैंने उसकी टीशर्ट उतार दी और पिंक कलर की ब्रा में थी। मैं उसके पूरे बदन को चुम्मने लगा था। मैं किस करते हुए उसकी नाभि पे गया,वो एकदम से सिहर गयी। मैं अपना एक हाथ उसकी लोअर की अंदर डाल दिया। वहां मुझे कुछ खुरदुरे बाल महसूस हुऐ। वो बोली मुझे बहोत अजीब लग रहा है, मैंने ये सब पहले कभी नही किया है। मैंने उसकी चूत में उंगली डाल दी वो आह आहकरने लगी। मैंने।

उसका हाथ पकड़ के अपने पैंट में से अपना करा लण्ड निकल के उसे पकड़ा दिया। वो मेरे लण्ड को जोर जोर से दबा रही थी और हिला भी रही थी। मैंने भी उसकी चूत में जोरजोर से उंगली करने लगा । थोरे देर में मुझे गिला से महसूस हुआ तब पता चल गया कि वो अपना माल छोर चुकी है। वो भी मेरा लण्ड इतने जोर से आगे पीछे करने लगी कि मेरा भी मूठ उसकी हाथ मे निकल गया। मैंने बगल के टॉवल में अपना और उसका हाथ पोछ दिया।

उसके बाद मैं पूरी तरह से नंगा हो गया। और उसकी ब्रा खोल दिया साथ मे लोअर पेंटी भी खोल दी। वो बोली मुझे बहोत सरम आ रही है। मैं अब उसकी बूब्स पे लग गया। दोनो बूब्स को जोर से दबा रहा था। तबतक मेरा लण्ड फिर से खड़ा हो गया था। वो भी गर्म हो गयी थी। मैंने उसे बोला कि अब कर दु वो बोली जैसा तुम चाहो।

बस आराम से करना मैं ये सब पहली बार कर रही हूँ। कर तो मैं भी पहली बार रहा था लेकिन मुझे पोर्न देख के पूरा एक्सपेरिंस हो गया था। मैंने उसकी चूत पे अपना लण्ड रख दिया और धीरे से धका लगया यो मेरे लण्ड का टॉप अंदर गया और उसे दर्द होने लगा। वो बोली इसे बाहर निकालो दर्द हो रहा। लेकिन मैंने एक जोर से धका मार और पूरा लण्ड अंदर चला गया। वो दर्द से कराह उठी।

रोने लगी और बोली प्लीज् मत करो बहोत दर्द हो रहा है। मैं थोरे देर वैसे ही लण्ड अंदर डाल के रुक गया। जब वो सांत हुई तो अपना लण्ड बाहर निकला उसपे थोड़ा खून लग गया था। उसकी सील मैंने तोर दी थी। अब मैं धीरे धीरे लण्ड अंदर बाहर करने लगा उसे दर्द तो हो रहा था लेकिन वो माज़े भी ले रही थी।

मैं अब उसे तेज रफ्तार से करने लगा था और वो भी उछाल के मेरा लण्ड ले रही थी।मैं अपनी गर्मी उसके अंदर उतार रहा था कुछ देर के दमदार सेक्स करने के बाद मैं उसकी चूत में झर गया। तबतक वो भी झर चुकी थी। तबतक उसके मम्मी पापा के आने का टाइम हो गया था। इसलिए मैं आगे नही लर सका मेरा मन तो नही भरा था लेकिन मज़ा बहोत आया था। वो भी इस सेक्स से खुस थी। उसे भी और करने का मन था। लेकिन मुझे जाना पड़ा। उस दिन के बाद से हम दोनों कॉल पे सेक्स के बाते करते थे। अब अगले कहानी मैं बताऊंगा की जब उसके मम्मी पापा एक दिन के लिए नही थे तब मैंने उसके पूरे दिन रात सेक्स किया।

दोस्तों ये मेरी फर्स्ट टाइम सेक्स कहानी आपको कैसी लगी आप हमे कमेंट करके जरूर बातये और अगर आपको ये अन्तर्वासना हिंदी सेक्स स्टोरी पढ़कर मज़ा आया तो इस कॉलेज गर्ल के साथ फर्स्ट टाइम सेक्स स्टोरी को आप दोस्तों के बिच शेयर करना न भूले.

ऐसी ही कुछ और हिंदी सेक्स कहानियाँ

Leave a Comment