भोली भाली लड़की की अन्तर्वासना को शांत किया

Antarvasna Hindi Sex Story – हेल्लो दोस्तो मैं वरुण आज फिर से आप सभी के सामने एक नई सेक्स की कहानी प्रस्तुत करने वाला हूँ। जो लोग मेरे बारे जनते उन्हें मैं अपने बारे में बता देता हूँ। मैं दिल्ली में रहता हूं और जोब भी करता हूँ। मेरी उम्र अभी 24 साल है लेकिन दिखने में है अभी भी 19-20का लगता हूँ। मैं एक चॉकलेटी लड़का हूँ जो अभी तक बहोत सारे लड़कियों और भाभी के साथ सेक्स कर चुका हूँ।। अब मैं स्टोरी पे आता हूँ।

Antarvasna Hindi Sex Story

Antarvasna Hindi Sex Story

तो ये बात सूरे हुई यू की मैं मैं आफिस से जॉब से लौट रहा था एक दिन मेरी नज़र एक लड़की के ऊपर गयी। वो कॉलेज या कोचिंग से जा रही थी। शाम हो गयी थी और वो अकेली भी थी। वो लड़की दिखने में बहोत सुन्दर थी मानो किसी परी की तरह थी। एकदम गोरी उसके पतले होठ पतली कमर छोटे चुचिया उसने पिंक कलर की टीशर्ट और ब्लू जीन्स में थी जिसमे वो बहोत प्यारी लग रही थी। मैं पहली नज़र में उसे देख के दीवाना हो गया था।

मैंने उससे बात करने की सोची लेकिन काफी भीड़ थी। मैंने उसका पीछा किया वो मेरे घर से पहले ही रहती थी। अब मैं रोज उसके जाने पहले उस रोड पे आ जाता था। मेरी उसकी नज़र मिल जाती न मैं कुछ बोलता न वो।

तब मैंने एकदिन हिम्मत बांध के उनके बगल में गया उसे टोक दिया। वो डरी डरी फील करने लगी मुझे लगा कहि ये किसी को ये न बोले कि मैं ऐसे छेड़ रहा हूँ। लेकिन वो बोली मैं ऐसे रास्ते में किसी से बात नही करती हूँ आप जाओ।

अगले दिन मैं अपना नंबर एक कागज पे लिख के उसके पास गया और उसे दे दिया। मैं अब इंतज़ार में था कि उसके मन मे कुछ होगा तो वो जरूर कॉल करेंगी। उसका रात को कॉल आया वो बोली मैं शिवानी बोल रही हूँ। उसकी आवाज बहोत प्यारी और मीठी थी।

उसने बोला कि मैं वही हु जिसे आपने नम्बर दिया था। मैं सुन के कुश हुआ मैंने अपना नाम बताया बोला कि मुझे विस्वास था कि आप कॉल करोगी। वो बोली मैं आपको सिर्फ इसलिए कॉल की हूँ कि आप मेरा पीछा मत किया करो।

मैं वैसी लड़की नही हूँ मेरी फैमिली बहोत स्ट्रिक्ट है आप मेरे पे ध्यन नही दो। मैं बोला की मैं तुम्हे जब से देखा हूँ तुम्हरा दीवाना हो गया हूँ तुमसे मुझे प्यार हो गया है। वो बोली मैं इन प्यार के चक्कर मे नही पर सकती माफ करो। फिर मैं सोचा कि बात बिगड़ रही है। मैं बोला कि अच्छा तुम मेरी सिर्फ दोस्त बन के तो रह सकती हो न। वो बोली मैं सोच के बताऊंगी और कॉल रख दी।

2 दिन वो कॉल नही की न मैं किया बस वो जब जाती तो मैं मुह लटका के उसके सामने से गुजर जाता था। 2 दिन उसका कॉल आया वो बोली कि मैं तुमसे दोस्ती कर सकती हूँ लेकिन तुम मेरे पीछे मत आया करना।मैं मान गया वो बोली अब तो आप हस दिजीये।

उस दिन से देख रही हूँ आप मुह बनाये हुए है। फिर उस दिन के बाद से हमारी बात सुरु हो गयी थी।वो 12 क्लास में थे उसकी उम्र 16 साल थी। वो बहोत अच्छे फैमिली से थी।

कुछ ही दिनों में हम दोनों एक दूसरे के बारे मे सब जान गए थे। लेकिन जब भी मैं कुछ रोमांटिक या सेक्स की बात करता वो रूठ जाती थी। मतलब ये था कि उसे सेक्स के लिए राज़ी करना बहोत मुश्किल लग रहा था। लेकिन बात करते करते वो मेरे काफी करीब आ गयी थी उसे मेरे ऊपर पूरा विस्वास हो गया था।

हम रात को काफी देर तक बात किया करते थे। एक दो बार वो अपने घर से दूर मुझसे मिलने भी आई लेकिन वहा बहोत लोग रहते थे तो मैं कुछ कर नही पाया।

फिर मैंने उसके साथ सेक्स के लिए एक प्लान बनाया। मैंने अपना जूठा जन्मदिन उसे बोला कि एक सप्ताह के बाद मेरा जन्मदिन है। वो बोली तो क्या गिफ्ट चाहिए मेरे से आपको, मैं बोला बस तुम मेरे साथ बर्थडे मनाने आ जाओ वो ही बहोत है। वो मान भी गयी ,फिर मैंने एक होटल में रूम बुक कर लिया था। उसे मैंने इस बारे मे कुछ नही बताया था कि मैं उसके साथ अकेला बर्थडे मनाने वाला हूँ।

वो दिन आ गया जब मैं बर्थडे मनाने वाला था। वो अपना कॉलेज बंक कर आई थी तो उसके पास भरपूर समय था। वो उस दिन बहोत सुन्दर तक रही थी उसने उस दिन ब्लू कलर की टॉप और ब्लैक जीन्स में आई थी। उसे देख के तो मेरे दिल बहोत कुश हो गया कि आज एक कच्ची काली तोड़ने को मिलेगी।

मैं उसे लेके होटल के अंदर गया वो बोली तुम्हरे दोस्त सब कहा है। मैं बोला कि मैं अपना बर्थडे सिर्फ तुम्हरे साथ मनाना चाहता था। उसे थोरे अजीब लगा लेकिन वो मेरे बर्थडे को सोच के कुछ न बोली। मैं उसे लेके रूम में गया रूम पूरा गुलाब के पंखुरी से सजा हुआ था।

वो बोली कि मुझे अजीब लग रहा मैं केक काटने के बाद जाना चाहती हूँ। मैं बोला ठीक है पहले तुम बैठो तो थोरे देर में वेटर केक लेके आया और एक कोल्ड्रिंक की बोटल और ग्लास भी,मैं केक काटा के उसे खिलाया।

मैं उसे गले लगा लिया और बोला कि थैंक्यू मेरे बर्थडे पे आने के लिए उसने मुझे गिफ्ट दिया। मैं बोला कि कोल्डड्रिंक लाता हूँ। मैंने पहले से ही उस कोल्डड्रिंक में मैनफोर्स की दवा मिला दी थी। वो उसे चुप चाप पी गयी।

वो बोली कि अब मैं जाती, मैं बोला कुछ देर रुक जाओ फिर चले जाना। हम दोनों साथ बैठ के बात करने लगे थे। कुछ ही देर के मेरे ऊपर उसका असर दिख रहा था और वो तो उसके नसे में डूब रही थी। मैंने उसकी बड़ाई करनी सुरु कर दी। एक रोमांटिक से गाना बजा दिया और लाइट्स को डिम कर दिया। मौहल पूरा रोमांटिक से हो गया था और दोनों उसके नशे में चूर थे।

तभी मैंने शिवानी के लिप्स पे लिप्स रख दिया। वो कुछ नही बोली और मैं उसे किस करने लगा था। उसे पता नही चल रहा था की वो क्या कर रही है बस मेरे साथ रोमांस में डूब रही थी। मैं उसे बेड पे लिटा दिया। मैं उसकी चुचियो को मसल रहा था और वो मौन कर रही थी। वो मुझे रोकना चाह रही थी लेकिन वो खुद उस मदहोसी में डूब रही थी। वो तो बिना रुके मुझे किश कर रही थीं।

अब मैंने देर न करते हुए उसके टॉप को उतार दिया अपना शर्ट भी खोल लिया। वो मुझे अपनी ओर किचा और मेरे गर्दन पे काट ली। उसके अंदर तो जंगली बिली आ गई थी। लेकिन मुझे उसका अंदाज़ बहोत पसन्द आ रहा था। मैं अब उसका जीन्स भी खोल दिया था। साथ के अपना भी जीन्स खोला, मैं तो पूरा नंगा हो गया था। वो ब्रा पेंटी में क्या गजब की माल लग रही थी।

मैं तो उसे देख के पागल हो गया। उसके ऊपर लेट गया उसके बदन की चुंमने लगा। उसने मुझे हग कर लिया तो मैं हाथ पीछे ले गया और उसकी ब्रा का हुक खोल दिया। फिर मैं चूमता हुआ निचे गया और उसकी पेंटी भी उतार दी।

वो बिल्कुल नंगी मेरे सामने परी हुई थी। उसका जिस्म एकदम गोरा और मुलायम था।जौसे दूध में नहा के आयी हो। मैं उसकी चूत को देख तो एकदम गुलाबी थी। चिकनी चूत जिसपे हल्के से बाल थे।

मैं उसके चूत को चुसने लगा जिससे वो और गर्म हो गयी और मेरे सर को दबाने लगी। मैं देर नही किया और उसके चूत पे लण्ड रख दिया। वो दिल से चुदने के लिए राजी नही थी लेकिन उसका दिमाग मे जो सेक्स का नासा था उसे लण्ड लेने के लिए आतुर कर रहा था। मैंने लण्ड को अंदर पेला लेकिन चूत एकदम टाइट था। मैंने फिर जोर लगया और लण्ड अंदर गया कि वो उठ के बैठ गयी।

उसे छटपटाने लगी और रोने लगी थी। मैं उसे धका दे लेता दिया और 2-4 धके मारा की उसकी सील टूट गयी। मेरे लण्ड पे खून लग गया था। मैंने लण्ड को बाहर निकल के साफ किया और उसके दर्द को आराम होने दिया तब तक मैं उसके चुचियो को चूस रहा था। कुछ देर बाद बोली कि डालो न मैं भी उठ के लण्ड पेल दिया।

दर्द तो उसे हो रहा था लेकिन वो मज़े भी ले रही थी। मैं अब तेजी से उसकी उसकी चुदाई कर रहा था।मेरे हर एक धके से उसकी आआह निकल जा रही थी।

मैं उसकी टांगे उठा के पेलता रहा और वो लण्ड लेती रही। मैंने भी दवा खयी थी तो असर तो होगा ही हम दोनों 45मिनट तक सेक्स बाद साथ मे झर गए और मैं उसकी चूत में ही झर गया। फिर मैं उसकी बगल के लेट गया। उसका तो दर्द से बुरा हाल था। वो मुझसे बोली कि ये हम दोनों ने क्या कर लिया। अपने मुझे यहाँ बुला के सही नही किया। मैं आपके साथ बहक गयी और ये सब कर लिया।

मैं बोला कि अब कर क्या सकती हो हम दोनों जवान हो गए है। ये तो किसी के बीच हो सकता है। तुम डरो नही ये बात किसी को नही पता चलेगा। वो बोली ये क्या गलती हो गया मुझसे, मैं उसे हग कर लिया और बोला तुम रो नही जो हुआ सो इस रूम में ही रहेगा। वो भी मुझे कस के पकड़ ली थी। मैं उसके पीठ को सहला रहा था। वो बोली आप ऐसे नही नही करो मेरा फिर से मन कर रहा है।

मैं बोला कि जब एक बार हो गया तो दुबारा होने में क्या दिक्कत है। मैंने उसकी चुचियो को चुसने लगा था। वो फिर से जोश में आ गयी थी। उसे अपने ऊपर ले आया और उसके चूत में लण्ड डाल के पेलने लगा। वो मस्त मज़े से चुद रही थी। अब उसे भी मजा आ रहा था। कुछ देर सेक्स के बाद हम दोनों पस्त हो गए थे।

उसके बाद हम दोनों 2 बार और सेक्स किये। मैंने उसकी एक बार पीछे से चुदाई की और फिर बेड के नीचे जाके। तब हम दोनों कुछ देर आराम करते रहे जब उसके कॉलेज का समय खत्म होने वाला था तो हम दोनों कपड़ा पहन लिए और उसके घर के रास्ते मे उसे छोड़ दिया। उसके कमर में बहोत दर्द हो रहा था लेकिन वो जैसे तैसे कर के चली गयी।

Some Hot Antarvasna Sex Stories

Leave a Comment