Lockdown me bhai ne sant ki meri antarvasna

Lockdown Antarvasna story – हेल्लो दोस्तो मैं पल्लवी आप सभी अन्तर्वासना सेक्स स्टोरी पढ़ने वालों को मेरा नमस्कार है। मैं आज अपनी एक कहानी लिख रही हूँ जो मैं लॉकडौन में अपने भाई के साथ किये सेक्स की है। मैं अक्सर हिन्दी सेक्स स्टोरी पढ़ती थी। मैं पहले अपने बॉयफ्रेंड के साथ बहोत बार सेक्स कर चुकी हूँ लेकिन जब मैंने अपने भाई के साथ जो सेक्स किया तो वो बहोत रोमांचक सेक्स हुई। इसलिए मैंने सोचा कि क्यों न ये आप लोग को भी बतायी जये। जिसे पढ़ के आप सभी का लण्ड खड़ा हो जये और मूठ मारने मन करे।

Antarvasna

मेरी उम्र अभी 21 साल है। मैं एक जवान और सुंदर लड़की हूँ। मेरा रंग गोरा है। मैं दिखने में बहोत सेक्सी हॉट हूँ मुझे देख के बहोत लड़के और मर्द मुझे चोदने की सोच लेते है। मेरी चुचिया बड़ी बड़ी है जिसे मेरे बॉयफ्रेंड में दबा दबा के बहोत बड़ा कर दिया है। अब मैं जहा भी जाति सब लड़को की नज़र मेरे चुचियो पे ही थी।

ये बात है अप्रैल 2020 की जब पूरे दुनिया भर लॉकडौन हो गया था। मैं चंडीगढ़ की रहने वाली हूँ। लेकिन मैं पढ़ाई करने के लिए दिल्ली में होस्टल में। रहती हूँ। वहाँ मेरे एक बॉयफ्रेंड है जिसके साथ मैं रोजना सेक्स करने उसके रूम में जाति थी। लेकिन लॉकडौन होने से पहले मैं घर आयी थी। बस फिर पूरे देश मे लॉकडौन हुआ और मैं अपने घर पे ही रह गयी। अब 2-4 दिन तो मैंने सह लिया लेकिन उसके बाद मेरे मन मे लण्ड लेने की हवस जग गई।

अब तो मैं बस लण्ड लेने को तरस रही थी। उन्ही दिनों में घर मे रह रही थी मन लगाने के लिए अपने भाई के साथ ही एंजॉय किया करती। एक दिन हम सब एक मूवी देख रहे थे उस मूवी में एक रोमांटिक सीन आ गया रिमोट में मेरे भाई के हाथ मे था। उसकी ओर मैंने देखे तो वो टीवी की ओर गौर से देख रहा था और उसके पैंट के अंदर तम्बू बना हुआ था। कुछ देर बाद सीन खत्म हुआ और वो बाथरूम में चला गया। मैं समझ गयी कि जरूर वो मूठ मारने ही गया होगा।

अब मेरा ध्यन अपने भाई के ऊपर गया क्यों न अपने चूत के लिए भाई के लण्ड को मनाया जये। मैं उसके पैंट के ऊपर से समझ गयी कि उसका भी लण्ड बहोत मोटा तगड़ा है। मैंने सोच लिया कि सेक्स के लिए अभी मेरा भाई ही मेरा साथी बन सकता है। उसी के साथ मै अपनी प्यास बुझा सकती हूँ। लेकिन अब उसे पहले तो सेक्स के लिए राजी करना भी जरूरी था।

उस दिन के बाद से मैं अपने भाई से बहोत क्लोज हो गयी थी। मैं जान भुज के ढीले कपड़े पहन के रहती थी। कभी कभी तो मैं ब्रा खोल देती थी। जिससे मेरे चुचिया साफ पता चल जाती थी। मैं अपने भाई के सामने जुख जाती और उसे अपने चुचियो के दर्सन करा देती थी। वो धीरे धीरे मेरे ऊपर ध्यन देने लगा था। लेकिन उसी तेजी से मेरी चूत की प्यास बढ़ रही थी।

एक रात जब सब खा के सोने गए तो मैंने सोच लिया कि आज रात तो सेक्स कर के रहूंगी अब चाहे जैसे हो। जब मम्मी पापा सोने गए तो मैं चुपके से अपने रूम से भाई के रूम में गए। गेट नॉक किया तो थोरे देरी से गेट खोला। मैं उससे बोली कि मुझे नींद नही आ रही थी और मन नही लग रहा था इसलिए सोची की तेरे से बात कर लूं। मैं उसके रूम में गयी जब मेरा ध्यन उसके लण्ड पे गया तो वो खड़ा था। उसने अपने लण्ड को एडजस्ट किया हुआ था फिर भी उसके लण्ड का उभार नज़र आ रहा था।

मैं समझ गयी कि ये जरूर सेक्स वीडियो देख रहा होगा या फिर सेक्स स्टोरी पढ़ रहा होगा। ये मौका अच्छा था भाई को राजी करने का भी क्योंकि वो पहले से मूड में भी था। मैं उसे बोली क्या कर रहे थे भाई तो वो बोला बस सोने की कोशिस, मैंने उससे पूछा क्यों तेरी कोई गर्लफ्रैंड नही है। वो बोला नही कोई नही बनी है, मैं ये सब नही करता हूँ। वो मेरे से सरमा रहा था। मैं बोली सरमाये नही तुम मुझे अपनी दोस्त की तरह समझो।

मैं जान बूझ के बोली कि तुम्हरे पैंट में क्या छिपा रखा है। वो अपने लण्ड पे हाथ रख दिया। मैंने उसका हाथ हटाया और उसके पैंट से लण्ड को निकाल लिया। वो मेरी ओर चुप चाप देख रहा था। मैं लण्ड निकाल के बोली तुम्हरा तो बहोत मस्त समान है। कभी काम भी किये हो कि ऐसे ही जंग लगा हुआ है। वो बोला कि मेरी कोई गर्लफ्रैंड नही इसलिए कुछ किया भी नही हूँ। तबतक मैं उसके लण्ड को सहला रही थी।

मेरे भाई अब मूड में आ गया था। मैं बोली कि तो तुम्हरी बहन किस दिन काम आएगी अपनी बहन के साथ कर लो सब कुछ, वो मेरी बात सुन के चौका लेकिन वो जोश में था उसने मेरे बूब्स पे हाथ रख दिया और हम दोनों एक दूसरे को किस करना सुरु कर दिए। वो मेरी चुचियो को दबा रहा था और मैं उसे पकड़ के चुम रही थी। दोनो के जीभ एक दूसरे को चाट रहे थे। मैंने उसका टीशर्ट खोल दिया और उसने मेरा, वो मुझे बेड पे लिटा दिया। मेरी ब्रा का हुक खोल ब्रा को निकाल लिया। वो सीधा मेरी चुचियो पे टूट पड़ा था। मेरी बदन की खुशबू उसे पागल कर रही थी। वो मेरी चुचियो में जैसे खो गया था।

वो मेरे बदन को चूमता हुआ नीचे गया मेरी नाभि में जीभ डाल के घुमा रहा था। हए क्या बताऊ मस्त मज़ा आ रहा था। अब वो मेरी लेगिंस को खोल दिया और फिर मेरे पैरों को चूमता हुआ ऊपर आया और मेरी पेंटी भी उतार दिया। मैं पूरी नंगी हो गयी थी। वो अपना भी पैंट खोल के फेका अब भाई भी नंगा था। मेरे ऊपर लेट के मेरे पूरे बन्द को चूम रहा था। मैंने बोला भाई मेरी चूत चाट न और बोला कि अपना लण्ड मेरे मुह दे। वो बोला पहले आप चुसो बस मेरे सीने वे आया और लण्ड मेरे मुह दे दिया।

मैंने लण्ड चूसना सुरु किया वो अंदर तक धकेल दे रहा था। उसने मेरा बाल पकड़ के आगे पीछे करने लगा। कुछ ही देर में वो मेरी मुह में पानी छोड़ दिया। अब उसकी बड़ी थी चूत चाटने की, वो नीचे गया और जीभ मेरे चूत में डाल के चूसना सुरु किया। मैं उसका सर पकड़ के अपने चूत में धकेल रही थी। उसे चूत चाटने नही आ रहा था। तो मैं बोली कि भाई अब तू अपना लण्ड मेरी चूत में डाल दे।

बस वो फिर उठा मेरी टांगे फैला दी और धीरे धोरे कर के लण्ड मेरी चूत में समा दिया। मुझे हल्का दर्द हुआ लेकिन इतने दिनों के बाद लण्ड लेके सुकून मिल रहा था। मैंने बोला तेजी में करो बस फिर वो भी अपने जोश में आ गया और पूरे दम से मेरी चूत पेलते हुआ अंदर बाहर कर रहा था। करीब उसी तरह 15 मीन सेक्स के बाद मैं बोली अब मैं ऊपर आती हूँ।

उसके बाद मैंने उसका लण्ड लिया और अपने चूत में डाल के चुदने लगी। वो भी उठा उठा के झटके मार रहा था। मैं झर गयी थी लेकिन वो अभी भी पेल रहा था कुछ देर बाद वो बोला मेरा भी होने वाला है तो मैं चूत लण्ड को बाहर निकल लिया। उसे हिलाने लगी 1 मिनट में उसके लण्ड से तेज धार की पिचकारी निकली और मेरे मुह पे आके पड़ा। फिर उसके बाद मैंने भाई से पूछा बहन के चुदाई में मज़ा आया तो वो बोला कि अभी कहा अभी तो और करना है। फिर हमने उसके बाद 2 बार और सेक्स किया। मेरा भाई अब हाफ रहा था मैं भी इतने दिनों के बाद चुद के बहोत कुश थी। उसने मेरे अंदर की अन्तर्वासना को सांत किया था। फिर हम दोनों वैसे ही सो गए।

Some Hot Antarvasna Sex Stories