लॉकडाउन में रितु की प्यास बुझयी – Antarvasna

नमस्ते दोस्तो आज फिर से हाजिर हूँ , मैं आप सबके साथ एक नई कहानी के साथ ,जिसमे लॉकडाउन में रितु की मदमस्त जवानी में चुदाई की मैंने। मैं आशा करता हूँ की इस कहानी में आपको अन्तर्वासना हिंदी सेक्स स्टोरी का भरपूर मज़ा आएगा. तो आपका समय न बर्बाद करते हुए कहानी पे आता हूँ। (Antarvasna Hindi Sex Story)

मेरा नाम रौशन है, और मैं चंडीगढ़ का रहने वाला हूँ। मेरी उम्र अभी 20 साल है। ये बात अप्रैल 2020 की है, जब पूरे दुनिया भर में लॉकडाउन था और लोग अपने घर से बाहर नही निकल पा रहे थे।

ये बात मार्च महीने से शुरू हुई, मेरी दीदी जीजाजी के साथ दिल्ली में रहती है, और मेरा 1 साल भांजा भी है। जिसका बर्थडे 22 मार्च को था। तो उसी के बर्थडे मनाने मैं दिल्ली अपनी दीदी के यहाँ गया था। लेकिन 22 मार्च को ही जनता कर्फ्यू के कारण बर्थडे ठीक से नही हो पाया और ज्यादा लोग नही आये। यहाँ तक कि जीजाजी के मम्मी पापा भी नही आ सके बस उनकी बहन आयी जिसका नाम रितु है। हम सब मिल के बर्थडे काफी अचे से मनाए।

मैं अब आपको रितु के बारे में बता देता हूँ। रितु की उम्र अभी 22 साल है , वो मेरे से 2 साल बड़ी है लेकिन मैं उसे नाम से ही बुलाता हूँ क्योंकि हम अच्छे दोस्त है। अब बात उसकी सुंदरता की करे तो सब्द कम पर जयेंगे उसकी सुंदरता के बारे मे बताते बताते। एकदम परफेक्ट फिगर 32″26″34 हॉट लुक। वो उसका गोरा बदन, पतली कमर,बारे बारे बूब्स और उभरी भी गांड साथ मे उसकी नासिली आँखें और वो रसीले होठ कुल मिला के वो किसी मॉडल से कम नही थी। मैंने उनको पटाने की कोसिस भी की थीं लेकिन मेरे से पहले उसका बॉयफ्रेंड था। लेकिन वो मेरी बहोत अच्छी दोस्त थी।

तो अब हुआ यूं कि बर्थडे तो बीत गया। मेरी वापसी की ट्रेन 24 मार्च को थी। लेकिन 23 मार्च के शाम से ही पूरे देश बार मे लॉकडाउन हो गया और मैं नही जा सका। मेरे साथ साथ रितु भी नही जा सकी और वो भी वही फास गयी। अब तो दिन भर घर मे ही रहना होता था।

हम अपना टाइम पास करने के लिए घर कभी लूडो कभी कैरम खेलते थे। तो कभी टीवी देखते थे, कुछ दिन ऐसे ही बीत गया। मैं रितु के साथ मे इतना टाइम स्पेंड करते हुए एक दूसरे से काफी घुल मिल गए थे। हमारे बीच काफी मज़ाक हुआ करता था।

वैसे तो मैं रितु पे पहले से फिदा था लेकिन अपने भावनाओ को दवा के रखता था। एक रात हुआ यूं कि सब खाना खा के साथ के टीवी देख रहे थे। थोरे देर बाद दीदी और जीजाजी बोले चलो सोने चलते है, टाइम बहोत ज्यादा हो गया है। लेकिन मुझे नींद नही आ रही थी तो मैंने कहा अभी मुझे नींद नही आ रही मैं थोरे देर बाद सोऊंगा। तो रितु भी बोली कि हां मुहे भी नींद नही आ रही। अब लोग सो जाओ हम थोरे देर में टीवी देख के सो जयेंगे। उसके बाद दीदी और जीजाजी सोने चले गए।

मैं और रितु सोफे पे बैठ के टीवी देख रहे थे। हमलोग एक रोमांटिक मूवी देख रहे थे। कुछ देर बाद उसमें एक रोमांस का सीन स्टार्ट हो गया और फिर सेक्स सीन भी लेकिन न मैंने चैनल चेंज किया न रितु ने, हम दोनों बारे गौर से वो सीन देखे जा रहे थे।

मेरी नज़र रितु की तरफ गयी तो उसका ध्यन एकदम टीवी पे था। लेकिन मेरी नज़र उसकी चुचियो पे गयी तो उसकी चुचिया एकदम तानी हुई लग रही क्योकि उसने एक ढीली टीशर्ट पहनी थी और साथ मे उसकी निप्पल की कर्क उसके टीशर्ट में साफ पता चल रही थी। ये नज़ारा देख मेरा लण्ड पूरा खरा हो गया। मैने अंदर चढ़ि नही पहनी थी तो मेरे हाफ पैंट में मेरा लण्ड तम्बू बना चुका था। मैंने अपने लण्ड को ठीक करना चाहा लेकिन चढ़ि न होने के कारण वो फिर से तन जा रहा था। ये करते हुए रितु ने मुझे देखे लिया और बोली क्या छिपा रहे हो। मैंने अपने पैर पे पैर रख दिया। रितु खिसक के मेरे पास आई और मेरा हाथ हटा दिया । मेरा लण्ड फिर से अंदर तंबू बना दिया।

वो बोली तुम्हरा चूहा तो सेर बन गया है। तो मैंने भी कह दिया तुम्हे ही देख के खरा हो गया है। उसने झट से मेरे पैन्ट में हाथ डाला और मेरे लण्ड को पकड़ लिया। मेरे बदन में तो करंट से दौर गया। मैं सोफे पे वैसे ही बैठा था। वो मेरे ऊपर आ गयी और मुझे किश करने लगी। मैं भी पूरे माज़े से उसका साथ दे रहा था। उसने किश करते हुए मेरे टीशर्ट को उतार दिया। मैं भी उसे किस किये जा रहा था और साथ मे उसके चुचियो को भी दबा रहा था।

वो किश करते हुए मेरे गर्दन पे आयी और उसने मेरे गर्दन पे काट लिया। वो आज एकदम जंगली बिली बन चुकी थी। उसके काटते ही मैंने उसकी चुचियो को जोर से मसल दिया और उसके उसके मुँह से एक आह निकली। फिर मैंने उसका टीशर्ट उत्तर दिया और मैंने उसका लोअर भी नीचे कीच दिया।

वो मेरे सामने ब्लैक ब्रा और पेंटी में थी, जिसमे वो बिल्कुल कातिलाना लुक दे रही थी। मुझसे रहा नही गया और उसे मैंने अपनी ओर किचा मैंने उसका ब्रा खोल दिया और उसकी चुचियो को चुसने लगा। मैं उसकी चुचियो को चूस भी रहा था और उसकी निप्पल को काट भी रहा था। उसे दर्द भी हो रहा था और मज़ा भी आ रहा था।

अब वो पूरी तरह से चुदने के मूड में आ चुकी थी। वो उठी और अपनी पेंटी उतार के मेरे उपर फेक दिया। फिर उसने पैन्ट भी खीच दिया। हम दोनों बिल्कुल नंगे हो चुके थे। मेरा 7 इंच का खड़ा लण्ड रितु की चूत देख चोदने को बेताब हो रहा था। रितु नीचे बैठ गयी और मेरे लण्ड को अपने मुह में ले लिया और लॉलीपॉप की तरह चुसने लगी। उसे लण्ड चुसने का पहले से आदत था। वो बहोत तेजी से मेरे लण्ड को अंदर बाहर कर रही थी। मुझे पता ही नही चला कि मेरी लण्ड की धार बहार आने वाली है और मैंने सारा माल उसके मुह में छोर दिया। वो मेरे लण्ड की धार को मुह में लेना नही चाहती थी लेकिन उसके लण्ड को मुह से निकलने से पहले मैंने उसका सर पकड़ के लण्ड अंदर कर दिया और उसे सारा माल पीना पर गया।

अब बारी मेरी थी, मेरी जगह वो सोफे पे बैठ गयी और अपने टांगो को फैला दिया। उसकी चूत एकदम साफ थी उसपे एक भी बाल नही थी मैं उसकी चूत को चुसने लगा। और वो मदहोश आवाज निकलने लगी।
दीदी और जीजाजी अपने रूम में सोए हुए थे तो हम बिना किसी दर के ये सब किये जा रहे थे। मैं उसकी चूत में जीभ डाल के चाट रहा था। कुछ देर चुसने के बाद वो भी झर गयी।

तबतक मेरा लण्ड फिर से पूरी तरह तन गया था और उसकी चुदने की बारी थी। मैंने उसे सोफे थोड़ा ऊपर किया और उसके दोनो टैंगो को अपने कंधे पे रख दिया। अपना लण्ड उसकी चूत पे टिक दिया और एक झटके में अपना लण्ड उसकी चूत में पेल दिया। उसके मुह से आवाज निकलने वाली थी उससे पहले मैंने उसकी होठ पे होठ रलह दिया। उसकी दोनो चुचियो को पकड़ लिया और जोर जोर से धका देने लगा। मैं पूरे जोश से उसे चोदे जा रहा था और उसे दर्द भी नही हो रहा था और माज़े भी ले रही थी। वो बस आह आह किये जा रही थी। बोली रही थी रोहन आज चोद के मेरी चूत फार दो काफी दिनों से नही मिला था लण्ड मुझे आज मेरी प्यास मिटा दो।

कुछ देर बाद वो झर गयी लेकिन मेरा नही हुआ था और मैं उसे चोदे जा रहा था। अब उसकी चूत से पच पच की आवाज आ रही थी। पूरे घर मे हमारे चुदाई की आवाज गुज रही थी। अब मेरा भी निकलने वाला था तो उसे पूछा अंदर डाल दु या बाहर तो वो बोली बाहर ही निकालो, फिर मैंने लण्ड निकला और उसकी नाभि पे गिरा दिया। और उसके बगल में बैठ गया। कुछ देर बाद मैं और रितु फिर से मूड में आ गए। मेरा लण्ड फिर से खड़ा हो गया अब रितु मेरे ऊपर आ गयी और अपनी चूत को मेरे लण्ड पे टिका दिया और ऊपर नीचे करने लगी। रितु उछल उछल के चुद रही थी। मैं भी उसे ढके मार रहा था अचनक कुछ आवाज हुआ तो हमलोग रुक गए हमे डर हुआ कि कोई उठ गया।

मैं उठा और रितु को अपनी गोद मे उठा लिया और रूम में लेके चला गया क्योंकि हम ये सब अभी ड्राइंग रूम में कर रहे थे। साथ मे मैंने हम दोनों के कपड़े उठा लिए और अपनी रूम में ले गया। उसे बेड पे लिटा दिया और फिर रितु की ताबरतोर चुदाई करने लगा।

उस रात हम अलग अलग पॉशन में काफी बार चुदाई किये। रितु अपने रूम में चली गयी। उस दिन का बाद मैं रितु को 50 भी चोद चुका हूँ। दीदी और जीजाजी के सो जने के बाद अक्सर रात को हम चुदाई करते है। दोस्तों यह अन्तर्वासना हिंदी चुदाई की कहानी आपको कैसे लगी आप हमे कमेंट करके जरूर बताये |

ऐसी ही कुछ और कहानियाँ

Leave a Comment