लॉकडौन में क़व्रन्टीन के दौरान गांव में चाची के साथ सेक्स किया

Lockdown mein chudai – सभी हिन्दी सेक्स स्टोरी पढ़ने वालों को मेरा नमस्कार, मेरा नाम हरीश है। मैं दिल्ली में रहता हूँ। यहाँ मैं अपने पापा मम्मी के साथ रहता हूं। हमरा लेकिन अपना घर बिहार में है। हम यहाँ किराए के मकान में रहते है।
मेरे पापा यहाँ एक फैक्ट्री में काम करते है और मैं अपनी पढ़ाई पूरी करता हूँ।

अब हुआ ये की कोरोना वायरस के फैलने के करना पुरे देश भर में लॉकडौन हो गया। मेरे पापा का काम बंद हो गया और मेरी पढ़ाई भी बन्द थी। हमारे रूम के किराया देना 1 महीने के बाद मुस्किल हो रहा था। हम जैसे लोगो के लिए सरकार ने श्रमिक ट्रैन चलवा रही थी। मेरे पापा ने सोचा कि अब गांव जाना चाहिए। दिल्ली में रहना मुश्किल हो गया था साथ मे यहाँ बहोत ज्यादा कोरोना फैल रहा था।

हम जैसे तैसे कर के गांव पाउच गए। अब हमें लेकिन 14 दिन के होम क़व्रन्टीन होना था। मैं अपने गांव 2 साल बाद आ रहा था। इससे पहले मैं अपने चाचा की शादी में आया था। मेरे पापा 4 भाई है, जिसमे मेरे छोटे चाचा की सादी में आया था। तो मैं सबसे छोटे चाची से ठीक से मिला भी नही था। हमे जल्दी में जाना पर गया था।

मैं जब घर मे गया तो सबसे मिला जब मेरी नज़र छोटी चाची के ऊपर गयी तो मैं तो उन्हें देखता ही रह गया। चाची क्या गजब लग रही थी वो बहोत सुन्दर सुसील थी। साथ मे वो सेक्सी फिगर के साथ एकदम क़ातिल करने वाला कमर मेरी तो नज़र ही नही हटी। फिर मम्मी ने पैर छूने को बोला मेरा तो मन कर रहा था कि उन्हें गले लगा लू। उसके बाद से तो हम आराम से रहने लगे थे।

मेरे छोटे चाचा मुम्बई में जॉब करते थे तो वो भी वही थे। मैं चाची के साथ काफी टाइम स्पेंड करने लगा था। चाची की उम्र महज 23 साल थी। तो वो मेरे उम्र से मिलती जुलती थी। हम दोनो एक दूसरे से काफी बात शेयर करने लगे थे। चाची मुझे बहोत पसन्द थी और तो वो मेरा बहोत ध्यन भी रखती थी। एक दिन बात बात में चाची ने मुझसे पूछा कि तुम्हरी कोई गर्लफ्रैंड है।

मेरी दिल्ली में एक गर्लफ्रैंड थी जिसके साथ मैं सेक्स भी करता था। अब गांव में आके मुझे सेक्स के लिए भी तरसना पर रहा था। मेरी नज़र चाची के ऊपर थी। लेकिन घर मे बहोत लोग थे तो मैं कुछ करने की सोच भी नही सकता था। मैंने चाची को कहा कि मैंने अपने बारे में बोल दिया आप बताओ कुछ अपने बारे में, वो बोली कि क्या बोलू तुम्हरे चाचा तो कबसे बहार है। मुझे तो अकेले ही मन लगाना पड़ता है। मैं उसी वक़्त बोल दिया कि आप चाहो तो मैं आपकी कमी दूर कर सकता हूँ।

आप मेरी कमी पूरी कर दो मौ आपकी मुझे भी अपनी गर्लफ्रैंड की बहोत याद आती है। वो बोली कि कैसी बात करते हो मैं तुम्हरी चाची हूँ कुछ शर्म करो। मैंने बोला कि अब आपके साथ शर्म कैसी आप मेरी उम्र की इसलिए मैंने ऐसा बोला है। वो बोली मैं तुम्हरे उम्र की हूँ लेकिन हमारे रिश्ते के कुछ मायने है। मैं कभी ऐसा सोच नही सकती हूँ तुम्हरे मन मे मुझे लेके ऐसे ख्यालात है।

चाची थोड़ी गुस्सा हो गयी थी, मैंने बोला कि चाची मैं समझ सकता हूँ कि आपकी भी कुछ इच्छा होती होगी। अगर ओके दिल की कमी को मैं पूरा कर दु तो क्या बात और आप मुझे कुश कर सकती हो। उस वक़्त तो चाची चली गयी लेकिन उस दिन के बाद से चाची के मेरे प्रति कुछ अलग व्यवहार था। एक दिन मैं नाहा के बाथरूम से निकला मैं सिर्फ टॉवल में था। चाची की नज़र में ऊपर गयी वो मुझे घूर के देख रही थी।

धीरे धीरे चाची भी मेरे ओर आकर्षित हो रही थी। मेरी कही बात उनके मन मे ही थी। एक दिन मैं छत पे था तभी चाची मुझे पीछे से आके पकर ली। मैं तो चौक गया कि चाची आज कैसे मूड में है। वो बोली कि तुमने जो उस दिन मुझे बोला था मैंने उसके बारे में सोचा लेकिन ये करना बहोत मुश्किल होगा। मैं समझ गया कि चाची भी अब सेक्स करना चाहती है। मैंने पहले उन्हें गले लगा लिया और बोला कि जब सब रात को सो जयेंगे तो मैं चुपके से आपके रूम में आ जाऊंगा।

आप तो अकेले सोती हो तो किसी को कुछ पता नही चलेगा और फिर मैं अपने रूम में आ जाऊंगा। वो बोली ठीक है लेकिन अभी छोड़ो नही तो कोई आ जयेगा। उन्होंने मेरे गाल पे किश किया और हस्ते हुए चली गयी। मैं तो पहले से उत्सुक्त था कि इतने दिनों के बाद चूत चोदने का मौका मिल रहा है। मैं अब रात होने और सबके सोने का इंतजार करने लगा था।

जब मैंने देखा कि सब सो गए है रात के 12 बज रहे थे। मैं उठ के चाची के रूम में चला गया उनका रूम खुला हुआ था। मैं अंदर गया तो चाची को देख के तो मेरा मन खुश हो उठा। चाची लाल रंग की एक सेक्सी नाइटी पहनी हुई थी। उसमे चाची तो बहोत हॉट लग रही थी। चाची अपने बेड पे लेती हुई मेरा ही इंतेज़ार कर रही थीं। वो ऐसे थी जैसे कि मैं आज रात उनके साथ सुहागा रात मनाने वाला हूँ।

मैं अब चाची के पास गया और मैं उनको किश कर लिया। चाची भी मेरे साथ किश करने में लगी हुई थी। हम दोनों भूखे की तरह एक दूसरे को चूम रहे थे। कभी वो मेरे ऊपर तो कभी मैं उनके ऊपर था। मैं अपना हाथ उनकी चुचियो पे ले गया। चाची की चुचिया 30 की साइज की थी। मैं किस करने के साथ साथ उनकी चुचिया भी दबा रहा था।

चाची कसमसा रही थी वो मेरी टीशर्ट को खोल दी। अब मैं भी उनका नाइटी की डोरी को खोल दिया। चाची अंदर सिर्फ ब्रा पैंटी में थी वो सेक्सी लाल रंग की थी। मैंने उनकी चुचियो को छुआ वो बहोत मुलायम थी। उनकी ब्रा एकदम गद्देदार थी जिसे दबाने में बहोत मज़ा आ रहा था। मैं अब उनकी नाइटी को उतार दिया। मैंने अपना पैंट को भी खोल दिया। चाची मेरा लण्ड देख के बोली इतना बड़ा ये तो बहोत बड़ा है।

मैं बोला एक बार अंदर लेके देखो तब पता चलेगा। वो बोली तो देरी किस बात की है। हम दोनों पूरे जोश में थे दोनो एक दूसरे को चूम रहे थे। चाची मेरे बदन को और मैं चाची को चूम रहा था। मैं अपना हाथ पीछे ले गया और उनकी ब्रा को खोल दिया। वो हटा दी उनकी चुचिया एकदम गोल मटोल नारियल की तरह थी। मैं दोनो चुचियो को पकड़ के जोर जोर दबा रहा था। चाची आआह आआह कर रही थी, मैं उनकी चुचियो को चूस भी रहा था। उनकी निप्पल को मुह में लेके काट रहा था।

चाची मेरा लण्ड पकर के हिला रही थी। तब मैंने बोला कि चाची इसे चुसो न वो निचे चली गई। मैं लेता है था और मेरे लण्ड को मुह में लेके चूसे जा रही थी। मुझे बहोत अच्छा महसूस हो रहा था। अब मेरा भी मन उनकी चूत चाटने की हुआ मैं उठ के उनकी पैंटी को खोल दिया। अब मैं और चाची 69 की पोज़ में आ गए था। मैं उनकी चूत चाट रहा था वो मेरा लण्ड चूसे जा रही थी।

कुछ देर के बाद दोनों एक दूसरे संतुष्ट कर के झर गए थे। मैं तो चाची के मुह म ही झर गया था। चाची के बगल में सारी मुठ को थूक दिया। अब हम दोनों फिर से चुम्मा चाती कर रहे थे। चाची मेरे जुके लण्ड को हिला रही थी। कुछ देर में मेरे लण्ड में हिम्मत आने लगीं थी। अब मैं उनकी चूत चोदने को तैयार था।

मैं उनको लेता के उनके ऊपर आ गया अब मैं उनकी चूत लण्ड रख के अंदर डाल दिया। चाची की उफ्फ निकल गयी मैं उसके बाद धके पे धके देता रहा। चाची आआह ऊऊह हए चोड दे मेरी कामवासना को सांत कर दे मेरे राजा मैं उतने हि जोश में उनकी चुदाई कर रहा था। उनकी तांग को कंधे पे लगा कि जोरदार धके दे रहा था। मैं उसी तरह उनकी 15 मिनट तक चुदाई करता रहा। मैं अब झरने वाला था तो मैने लण्ड निकाल दिया और उनकी चुचियो पे ले जाके हिलाने लगा।

कुछ देर में मेरा पानी निकाल गया। मैं अब उनकी बगल में लेता है था और उनकी चुचियो को मसल रहा था। मैं उनकी निप्पल को चूस चूस के लाल कर दिया था। अब फिर से मेरा मूड बन गया था। चाची अब मेरे ऊपर आके चुद रह थी। मैं अब अलग अलग पोज़ में उनकी चुदाई कर रहा था। चाची बोली इतने दिनों के बाद तुमसे चुद के मेरा मन खुश हो गया है।
तुमने मेरे मन की तृप्त कर दिया है।

उस रात के बाद से 2-3 के बीच मे उनकी चुदाई कर देता था। चाची भी खुश और मैं भी दोनो एक दूसरे को भरपूर मज़े दे रहे थे।

Lockdown mein chudai In Hindi

Leave a Comment