लॉकडौन में बहन की चुदाई Part-1

Lockdown Sex Story – हेल्लो दोस्तो मैं सतीश आज आप सभी हिन्दी सेक्स स्टोरी पढ़ने वालों के साथ अपनी भी कहानी आप सबको बताने वाला हूँ। मैं भी रोज सेक्स स्टोरी पढ़ा करता था। ख़ास कर मैं कामवासना की कहानियां पढ़ा करता था। मैं पहले कभी सेक्स भी नही किया है।

ये कहानी मेरे बड़ी बहन रचना की है। जिसे मैंने लॉकडौन में घर मे सेक्स करते हुए देखा। उसकी की सेक्स की दास्तां जो मैंने अपने आखों से देखी उसे मैं आपसे बया कर रहा हूँ। मेरी बहन रचना मुझसे एक साल बड़ी है। मैं अभी 18 का हूँ वो 19 की है। हम दोनों साथ एक दोस्त की तरह ही रहते है। अब मैं स्टोरी पे आगे बढ़ने से पहले बहन के बारे में बता देता हूँ।

मेरी बहन मेरे साथ ही कॉलेज में पढ़ती है। वो दिखने में बहोत सुन्दर है उसके पीछे तो कॉलेज के बहोत सारे लड़के फिदा है। लेकिन मैं हमेसा उसी के साथ रहता था इसलिए किसी की हिम्मत नही होती थी कुछ कहने की हम साथ मे कॉलेज आया जाया करते थे। या तो वो कभी कभी अपने दोस्त के साथ भी जाया करती थी।

अब हुआ की कोरोना वायरस फैलने की वजह से लॉकडौन हो गया। हम अब घर पे ही रहते थे। मेरे घर मे हम दोनों भाई बहन और मम्मी पापा है। हम दोनों के अपना अपना कमरा है तो मैं रोज रात को सेक्स की कहानियां पढ़ के मूठ मार लिया करता था। ऐसा करते हुए लॉकडौन में 2 महीने बीत गए। मैं तो कभी कभी घर के बाहर चल भी जाता था।

लेकिन मेरी बहन कही नही गयी थी। एक बार मेरे मम्मी पापा कुछ लॉकडौन खुलने के बाद एक रिश्तेदार के यहाँ 2 दिन के लिए गए थे। उस रात भी मैं अपने रूम में कहानी पढ़ रहा था। रात के 12 बज रहे थे। तभी अचानक मेरे खिड़की के बगल में कुछ आवाज हुआ। मैं अंदर से जाक के देखा तो एक लड़का हमारे घर के दीवाल पे था। वो घर के कैंपस में कूद गया।

मुझे लगा कि घर मे चोर घुस आया है। मैं सोचा अपने बहन को उठा के पुलिस को फोन करता हूँ। तभी मैंने देखा कि मेरी बहन अपने बालकॉनी में है। वो उस लड़के को इसारे कर रही है। मैं चुपके से वो सब देखने लगा। वो लड़का मेरे घर के पीछे चला गया। तब बहन के रूम का गेट खुला मैं भी अपने रूम से बाहर आ गया।

मेरी बहन पीछे के गेट से उसे लेके घर मे आ गयी। अपने रूम में लेके चली गयी। ये सब देख ये यो समझ चुका की ये बहन का बॉयफ्रेंड है। दोनो अंदर गए और गेट बन्द हो गया। अब मुझे अंदर के हाल को जानने के लालसा हो रही थी। जब कुछ देर हो गया तो मैं एक टेबल लेके आया और बहन के रौशनदान के पास लगा के जाकने लगा।

मैंने देखा रचना तो उस लड़के की बाहों में लिपटी हुई है। वो लड़का मेरे ही कॉलेज का था। वो रचना की क्लास का था उसका नाम सुनील था। उसने बहन से पूछा कि तुम्हरा भाई आएगा तो नहीं न।बहन बोली कि वो तो सो रहा होगा। हमारे पास आज रात भर समय है। तुम मेरी महीने की प्यास को बुझा दो। आज मुझे चोद के खुश कर दो। पता नही फिर कब मौका मिलने वाला है।

अब दोनों के बीच किश सुरु हो गया। मेरे मन मे आया कि अभी उसे जाके रोकता हूँ लेकिन मैं चुप चाप देखने मे लग गया था। मेरे दिमाग मे था ही नही की सामने मेरी बहन हैं मैं तो बस उस दोनो के रोमांस को देख रहा था। वो रचना की चुचिया को दबा रहा था। रचना जोश में आ रही थी। उंसने अब रचना का टीशर्ट ऊपर कर दिया और उसकी ब्रा में से चुचिया बाहर निकाल के दबाने लगा।

फिर उसने उसकी टीशर्ट को खोल दिया फिर ब्रा की हुक को भी खोल दिया। मैंने अपना मोबाइल निकाल के चुपके से उन दोनों के इस करतूत को रिकॉर्ड करने लगा था। अब बहन ने भी सुनील के टीशर्ट को खोल दिया। दोनो एक दूसरे को बेतहासा चुम रहे थे। सुनील रचना की चुचियो को चूस रहा था।

उसके बाद उसने अपना पैंट खोल दिया। उसका लण्ड खड़ा होके चोदने को बेताब हो रहा था। उंसने मेरी बहन को नीचे बिठा दिया और लण्ड उसकी मुह में दे दिया। वो भी बड़े प्यार से चुसने लगी लण्ड को पूरा अंदर बाहर करने लगी थी। अब उसने रचना को खड़ा किया और उसकी लोअर को नीचे कीच दिया। मेरी बहन आज पहली बार मेरे सामने नंगी खड़ी थी।

वो रचना की चूत पे हाथ फेरने लगा था। रचना की चूत एकदम साफ थी लेकिन उसकी चूत काली हो गई थी। सईद वो इससे पहले भी काफी बार सेक्स कर चुकी है। अब सुनील ने रचना को बेड पे लेता दिया और उसके ऊपर चढ़ गया। वो लण्ड लिया और एक बार मे ही लण्ड को चूत में घुसा दिया। रचना बोली आराम से करो मैं कही भाग नही रही हूँ।

फिर उसने धीरे धीरे लण्ड को अंदर बाहर करना सुरु किया। मेरा खरे खरे पैर दुख रहा था। लेकिन मेरे मन मे चुदाई देखने को था। अब सुनील मेरी बहन की जोर जोर से चूत मारने लगा था। बहन मेरी बस ऊऊह आआह कर रही थी। सुनील उसकी टांगे उठा के चोद रहा था। जैसे लग रहा थी कि आज रचना की चूत को फाड़ देगा । तबतक रचना सांत हो गयी थी लेकिन सुनील का नही हुआ था। जब उसको लगा कि वो झरने वाला है तो उसकी चुचियो पे चला गया और लण्ड हिला के सारा पानी उसके चुचियो पे झर गया।

दोनो ऐसे ही लेते हुए थे दोनो के बीच अब चूमा चाती सुरु थी। कुछ ही देर में सुनील का लण्ड फिर से खड़ा हो गया। अब रचना सुनील के ऊपर आ गयी और उससे चुदने लगी थी। सुनील नीचे से जोर लगा रहा था और रचना कूद के चुद रही थी। उसके बाद सुनील ने रचना को कुतिया बना के चोदना सुरु किया। वो बीच बीच मे उसकी चुतरो पे थप्पड़ भी मार देता था।

ऐसा करते हुए अलग अलग तरीके से सुनील रचना की चूत मारे जा रहा था। तबतक 2 बज गए थे। टेबल पे खड़े खड़े मेरा पैर दुख रहा था मैं तो उन दोनों की चुदाई की पूरी वीडियो रिकॉर्ड कर चुका था। अब जब सुनील आखिर में झरने वाला था तो उसने रचना के चेहरे पे ही झार दिया। रचना ने अपना मुह साफ किया। दोनो नंगे ही सो गए थे।

मैं भी उतर के वहाँ से चला आया। अब मैं अपनी बहन की चुदाई देख के मूठ मारा और सो गया। देर रात सोने की वजह से मैं सुबह लेट से उठा तब तक सुनील जा चुका था। लेकिन अब मेरे मन मे गया था कि साल यहाँ मैं मुठ मार के जी रहा हूँ। मेरी बहन चुदाई के मज़े ले रही है अब आज मैं उसकी चुदाई करूँगा। तो अगले कहानी में बताता हूँ कि मैंने अब कैसे अपनी बहन को चोदा।

Some New Sex Story In Hindi

Leave a Comment