पड़ोसन भाभी के चूत को बुजया, दूध पिया!

Bhabhi Ki Chudai – हेल्लो दोस्तो, मेरा नाम सुजीत है। मैं आज सभी को एक सेक्स की मज़ेदार कहानी बताने वाला हूँ। मैं रोजाना इस वेबसाइट पे सेक्स की स्टोरी पढ़ता हूँ। एक दिन मैंने इसमे अपनी कहानी लिखने के बारे में देखा मैंने भी सोचा कि अपनी भी कहानी लिखी जये। आखिर इस वेबसाइट पे इते मज़ेदार स्टोरी है तो एक मेरी भी जिसे पढ़ के आप सभी सेक्स स्टोरी पढ़ने वालों को सेक्स करने की तलब हो जये।

मेरी उम्र अभी 22 साल है। मेरी पढ़ाई पूरी हो गयी थी तो अक्सर घर पे ही रहता था। बस नौकरी के तलाश में था, और उसी की तैयारी करता रहता था। मेरा घर मे मेरे मम्मी पापा और एक छोटा भाई था। मेरी एक गर्लफ्रैंड भी थी तो उसके साथ सेक्स लाइफ भी मज़े में थी।

तो ये स्टोरी है मेरी पड़ोसन प्रभा भाभी की, जिसने मेरी साथ सेक्स कर के अपने अंदर की अन्तरवासन को सांत किया मैं रायपुर के अपने फैमिली के रहता था। तभी हमारे बगल वाले फ्लैट में एक पति पत्नी का जोड़ा रहने आया। उनका एक 1 साल का बच्चा भी था। वो लोग बहोत अच्छे थे और हमारे फैमिली से घुले मील हुए थे।

भाभी के पति का नाम मोहन था। वो एक सरकारी नौकरी करता था। प्रभा भाभी दिखने में कोई खास नही थी। इसलिए मेरा ज्यादा ध्यन उनके ऊपर नही जाता था। लेकिन भाभी जब से रहने आयी थी वो मेरी ओर कुछ ज्यादा ही ध्यन देती थी। जब हमारे घर आती तो मुझसे बात करने की कोसिस में रहती थी।

वो कुछ ऐसा भी नही बोलती थी कि मैं समझू की वो मेरे ऊपर डोरे डाल रही लेकिन हमेसा मेरी तारीफ करना अगर मैं अकेला छत पे रहता तो मुझसे बात करने की कोसिस करती। उनके बोलने के तरीके से रहा था कि वो मेरे बारे में कुछ अलग ही ख्याल रख रही थी। सही से देखा जये तो वो भाभी नही मेरे दोस्त बनना चाहती थी। उनका उम्र भी22-23से ज्यादा नही था।

उनकी सादी ही बहोत काम उम्र में हो गयी थी। उनके पति भी ज्यादा नही 28-30के होंगे। एक दिन दिन हुआ कि वो शाम के वक़्त छत पे अकेले अपने बच्चे को लेके उदास सी बैठी हुई थी। मैं गया यो उनसे पूछा वो कुछ बोलना नही चाह रही थी। उनके आखों में हल्के आंसू भी थे। मेरे बहोत जिद करने पे वो बोली कि उनके पति से उनका झगड़ा हुआ है।

उन दोनों के किसिन किसी बात को लेके झगड़ा होता ही रहता था। वो अपने सादी सुदा जिंदगी से खुश नही रह रही थी। उसने उस दिन बातो में बहोत कुछ अपने बारे में बोलती गयी। वो यहाँ तक कि सेक्स लाइफ से भी असंतुष्ट थी। बच्चे के बाद तो उसके पति उसपे ध्यन ही नही दे रहे थे।
उनकी बातों से मुझे लग गया कि ये किसी और के साथ शारीरक सम्बंद बनाना चाहती है।

मुझे ये लग रहा था कि ये तो मेरे ऊपर ध्यन दे रही है। मैं उसके साथ कुछ कर भी नही सकता था क्योंकि मेरे घर मे सब रहते थे और उसके घर मे उसके पति तो मेरे मन मे ख्याल ही नही आया था। लेकिन भाभी फिराक में थी कि कब मौका मिल जये।

एक दिन ऐसा आ ही गया मेरे घर के सभी लोग सादी में गए थे मुझे भी जाना था लेकिन मैं कल होके सुबह जाता मेरा एक इंटरव्यू था। मेरी मम्मी उन्ही मेरे खाने का कह के गयी थी। संजोग से उस उसके पति भी रात को नही आने वाले थे। ये बात मुझे पता नही था।

दिन भर मैं घर से बाहर रहा शाम को आया तो तो भाभी ने मुझे चाय दिया और बोला कि रात को खाना खाने हमारे यहाँ आ जाने के लिए। तबतक मुझे नही पता था कि उनके पति नही है। रात के 9 बजे भाभी ने मुझे आवाज लगया। मैं भी चला गया जब अंदर गया तो बस भाभी उनका बच्चा था। मैंने उनसे पूछा तो वो बतायी की काम को लेके वो सहर के बाहर गए है। सुबह आने वाले है वो।

फिर वो खाना लेके आ गयी। हम साथ मे खाना खये और भाभी बोली थोरे देर रुक जाओ अकेली हूँ मन नही लग रहा है। बाबू भी सो गया है मैं रुक गया और बाते करने लगा। बातो में उन्होंने मुझसे मेरी गर्लफ्रैंड के बारे में पूछा मैंने भी बता दिया। फिर वो बोली कि सेक्स भी किये होंगे। मैंने उसमे भी हा बोला, वो बोली कि कितना अच्छा है।

आप सादी से पहले मज़े ले रहे हो और यहाँ मैं सादी के बाद भी प्यासी हूँ। उन्होंने सीधा मुझसे बोला कि आज अपनी भाभी का भी प्यास आप बुझा दो न। आज मौका भी है मूड भी है। मैं थोड़ा सोच में पर गया कही ये चेक तो नही कर रही हैं। मैंने बोला आप अपने पति को धोखा दोगी तो वो बोली वो भी मुझे धोका दे रहे है। उनका सईद किसी और से भी चक्कर चल रहा है।

जब वो किसी के साथ सो सकते है तो मैं क्यों नही, और आपको क्या दिकत है। अपनी गर्लफ्रैंड को खुश कर रहे हो आज रात मुझे कर दो। मैंने भी सोच लिया अब जैसे हो सेक्स करने का मौका छोड़ना नही चाहिए। मैंने उन्हें बेड पे लेके गया। उनके बच्चे को झूले में सुला दिया।

भाभी मेरे गले लग गई और बोली आज मुझे आप अपना बना लो। बहोत दिनों से मेरी चूत प्यासी है आज उसकी भूख मिटा दो। मैंने पहले तो उन्हें किस किया और फिर उन्हें बेड पे लिटा दिया।मैं उनके ऊपर लेट गया। उन्होंने कुर्ती और लेगिंस पहना हुआ था। मैंने उनकी कुर्ती को उतरना सुरु
किया।

वो ब्लैक ब्रा में थी और एक चुदासी नज़र से मुझे देख रही थी। तभी उन्होंने मुझे किचा और मुझे चुंमने लगी। वो पागलो की तरह मेरे बदन को चूम रही थी। मेरे हाथ उनके चुचियो पे थे जो उनके ब्रा के ऊपर से दबा रहे थे। भाभी एकदम गर्म हो गयी थी। उन्होंने मेरी टीशर्ट निकाल दिया।

मैं गया और अपना लोअर खोल दिया और भाभी की लेगिंस को भी उतार दिया। भले बहार से ठीक न हो लेकिन उनका बदन एकदम मस्त गर्म था। उनकी पैंटी को उतार दिया। साथ मे उनके ब्रा को भी खोल दिया। हम दोनों पूरे नंगे हो चुके थे। भाभी में लण्ड लेके सहला रही थी। तो मै मैंने बोला इसे चुसो वो मान भी गयी।

मैं उनके मुह में लण्ड पेल रहा था वो भी अंदर तक ले जा रही थी। तबतक मैं उनके निप्पल को मसल रहा था जिससे हल्के से दूध आ रहे थे। मैंने अब उनकी दूध पीने का मन हुआ मैं दोनो चुचियो में से दूध चूस रहा था। बहोत मजा आ रहा था ऐसा कर के मैं दोनो निप्पलों को किच रहा था।

तभी वो बोली कि सिर्फ चुसोगे की कुछ और भी करोगे। वो चुदने को बेताब थी। मैं भी लण्ड उनकी चूत पे रख दिया और अंदर घुसाने लगा। उनको हल्का सा दर्द हो रहा था लेकिन वो सहन करने लायक था। जब दो तीन बार आगे पीछे कर लिया। लण्ड चूत में अच्छे से सेट हो गया था।

तब मैंने उनके टांगो को उठा के चोदने लगा। वो तो बस आआह आआह किये जा रही थी। 10मिनट तक ऐसे ही करने के बाद वो झर गयी थी उसी के 2 मिनट बाद मैं भी झर गया। मैं फिर से उनका दूध पीने लगा था। कुछ देर बाद मेरा फिर से फुर्ती में आ गया था।

अब उन्हें ऊपर बिठा के नीचे से लण्ड डाला। वो खुद कूद के चुद रही थी। साथ मे उनकी चुचिया भी झूल रही थी। मैं फिर उनकी पीछे से चुदाई करने लग गया था। मैं आज उनकी अन्तर्वासना को सांत करने में लगा था। उन्हें चोद के खुश कर दिया था। हम लगतार रात भर सेक्स करते रहे और हर बार मैं उनकी चूत में झरता रहा।

उस रात मैंने उनकी प्यास को बुझा दी थी। हम दोनों वैसे ही रात भर सोये रहे थे। सुबह जब उठा तो वो बोली अभी पति के आने में टाइम है एक बार और कर दो। मैंने फिर सुबह सुबह उनकी चुदाई कर दी फिर बाथरूम ले गया वहाँ भी उनको चोदा। उसके बाद मैं चला आया। उस दिन के बाद से जहाँ मैं अपनी गर्लफ्रैंड के साथ सेक्स करता था। उन्हें भी वही ले जाता था। उनके अंदर की कामवासना को सांत करता रहता था।

Some Hot Chudai Story In Hindi

Leave a Comment