आंटी के साथ चुदाई (Part-1)

हेल्लो फ्रेंड्स मै विक्की आज आप सबको मै अपनी सेक्स स्टोरी शेयर करने वाला हु। मै अपनी बगल वाली आंटी के साथ सेक्स का आनंद लिया। मुझे सेक्स स्टोरी पढ़ने की हमेसा से आदत है,तो मैंने सोचा क्यों न अपनी स्टोरी भी आज शेयर की जये। मेरी उम्र अभी 19साल है। मै शरीर से काफी तंदरुस्त हु क्योंकि मै जिम भी जाता हूं।
मै अपनी फैमिली के साथ रहता हूं, मेरी फैमिली में मेरी माँ पापा और एक छोटी बहन है।

तो ये बात आज से कुछ महीने पहले की है। हम भुबनेश्वर के एक मोहल्ले में रहते है। हमारे आस पास काफी घर भी है। हमारे घर के बगल में एक बंगाली फैमिली रहती थी, उसके घर मे पति पत्नी और उनका एक बेटा रहता था। मै उन्हें अंकल आंटी कहता था। आंटी की उम्र 40और उनके पति की उम्र 45थी। और उनका बेटा 12साल का था।

तो अब मै स्टोरी पे आता हु, वैसे तो मेरी गर्लफ्रैंड भी और मैं उसके साथ सेक्स भी कर चुका हूं। लेकिन मुझे आंटी और भाभी के साथ सेक्स करने का ज्यादा सौख था। क्योंकि मुझे बड़े चुचियो और गण्ड वाली औरतों ज्यादा पसंद है। मै अक्सर भाभी सेक्स वीडियो या आंटी सेक्स वीडियो देखता था।

लेकिन अब तक किसी आंटी या भाभी के साथ सेक्स करने का मौका नही मिला है। लेकिन मेरी नज़र मेरी बगल वाली आंटी पे हमेसा रहती थी। वैसे तो वो मेरे घर मे अति जाती थी और हमारे फैमिली के बीच काजी अच्छा संबंध था,लेकिन मै हिमत नही कर सकता था कुछ करने के लिए। यह हिंदी सेक्स कहानी आप bhabikichudayi.onlline पर पढ़ रहे है

मै आप सबको आंटी के बारे में बता देता हूं। आंटी का नाम विमला है।उनकी उम्र अभी 40 साल है लेकिन उनकी वो दिखने में अभी भी 28-30 साल की लगती है। दोस्तो उनका फिगर एकदम मॉडल की तरह है, उनका फिगर 34″32″28 है।

क्योकि वो घर पे योगा भी करती है और एक्सरसाइज भी,जब वो सारी पहन के निकलती है और उनकी वो कमर और उबरे हुए गण्ड और गोल मटोल चुचियो को देख मेरा लण्ड खरा हो जता है। आखिर मे मै आंटी के बारे में सोच के मुठ मार लेता हूं। ऐसे ही रोज उन्हें देखता और रोज मुठ मार करता था ।

एक दिन मेरे किसी रिश्तेदार के यहां सादी थी, तो हम सबको जाना था लेकिन मैने जाने से माना कर दिया। कहा मेरी परीक्षा नजदीक है मै नही जा सकता। वहां जाऊंगा तो मेरा माइंड डाइवर्ट होगा और फिर पढ़ाई में मन नही लगेगा। तो पापा ने कहा ठीक है तुम रुक जाओ। मै तो इसलिए माना कर रहा था की घर खाली रहेगा तो अपनी गर्लफ्रैंड को घर बुला के चोदने का मौका मिलेगा।

अगली सुबह सब जाने वाले थे, तो मम्मी ने जाते समय आंटी को कह दिया कि विक्की घर मे अकेला रहेगा 2 दिन तो थोड़ा ध्यन देते रहने के लिए। आंटी ने कहा आप टेंशन न ले और से जये।मै इसका पूरा दिन रखूंगी मै मन ही मन कह रहा अगर ध्यन रखी होती तो ऐसे ही नही आपके नाम की रोज मुठ मरता। फिर मेरी फैमिली चली गयी।

फिर मैंने अपने गर्लफ्रैंड को फ़ोन किया और बोला घर मे कोई नही है तुम मेरे घर आ जाओ। तो उसने कहा सॉरी आज मैं घर से नही निकल सकती हूं मेरे यहाँ कुछ गेस्ट आये है।तो मै मयूश हो गया और गुस्से मे फोन रख दिया। फिर उससे पूछा क्या तुम कल आ सकती हो मेरे मम्मी पापा दो दिन के लिए गए। तो उसने ह कह दी। मैंने कहा चलो ठीक,उनसे बोला बाद में बात करती हूँ। फिर मै टीवी देखने लगा।

थोरे देर बाद मेरे घर की घंटी बजी मैंने गेट खोला तो देखा आंटी है। उन्होंने मुझसे कहा क्या कर रहे हो, तुम्हे खाना खाया। मैंने कहा हा मम्मी बना के गयी थी। आंटी बोली मैं घर मे अकेली थी तो सोचा तुम से बात कर लूं तुम्हरी मम्मी रहती थी तो उसने बात कर लेती थी दिन भर, मै खुस होक बोला है आंटी आओ न अंदर। और हम साथ बैठ के टीवी भी देख रहे थे और बाते भी कुछ कुछ कर रहे थे। यह हिंदी सेक्स कहानी आप bhabikichudayi.onlline पर पढ़ रहे है

लेकिन मेरा ध्यान टीवी पे नही आंटी पे था मै उन्हें बारे गौर से घूरे जा रहा था। आंटी ने नाइटी पहनी हुई थी जिसमे उनके बूब्स के साइज साफ पता चल रहे थे। जो मेरे ध्यान को आकर्षित कर रहा था। और उनके2पूरे बदन को घूर रहा था।

अचानक आंटी ने कहा विक्की ऐसे क्या देख रहे हो। और तुमने अपने पैंट में क्या रखा है। मैंने ध्यान दिया तो देखा कि मेरा लण्ड तो मेरी पैंट में तम्बू बना रखा है। मैंने झट से अनपे लण्ड को ठीक किया लेकिन वो फिर भी उभरी हुई थी क्योंकि मैंने अंदर चढ़ि नही पहन रखी थी।

तो आंटी ने कहा विक्की तुम्हरा समान तो बहोत बड़ा है। मैने अपने लण्ड पे हाथ रख दिया और नही आंटी वो तो ऐसे ही पैंट उठ गया। तो उन्होंने कहा समाओ नही तुम अब बारे हो गए हो। और तुम्हरी उम्र के हिसाब से तुम्हरा लिंग का साइज अच्छा है।

उन्होंने कहा क्या मैं तुम्हरे लिंग को देख सकती हूं कितना बड़ा है। मै कुछ नही बोला बस मन है मन सोच रहा था अरे जानेमन ये तुम्हरे है लिए तो खरा है। और अचानक मेरे पास आ गयी मेरे बगल में लेट गई और मेरे लोअर के अंदर हाथ डाल दिया। मुझे तो एकदम से करंट जैसा लग गया।

मेरा लण्ड और टाइट हो गया।मेरे दिमाग मे और कुछ आया नही मैंने झट से आंटी की होठ पे होठ रख दिया और उन्हें किश करने और उन्होंने भी मेरा विरोध नही किया और मेरा साथ देने लगी साथ ही में वो मेरा लण्ड भी सहला रही थी।यह हिंदी सेक्स कहानी आप bhabikichudayi.onlline पर पढ़ रहे है

कहा मैं अपनी गर्लफ्रैंड को चोदने का पालन बना रहा था और यहाँ मै आंटी के साथ ये करने लगा मुझे मेरे सपने पूरा होता दिखाई दे रहा था।
मै किश करते करते उनकी गर्दन पे आ गया और मेरे हाथ उनके बूब्स पे चले गए मैंने कस के उनका बूबस बदया। उनका बूब्स इतना बड़ा था की मेरे एक हाथ मे एक ही चूची आ रही थी। अब वो मुझे किश करते करते नीचे गयी और मेरे लोअर को नीचे कर दिया ।

मेरे लण्ड को अपने मुह में लिया और चूसने लगी। उनके चूसने से मुझे बहोत आनंद मिल रहा था। आज तक मेरा लण्ड किसी ने ऐसा नही चूसा था। मुझे भी उनकी चूत चाटने का मन किया मैंने उनकी नाइटी ऊपर की मैंने देखा आंटी ने पेंटी नही पहनी थी। और उनके चूत पे एक भी बाल नही थे। मैन ट्रंत अपना मुंह उनके चूत पे रख दिया और चाटने लगा। मेरे चाटने से उन्हें बहोत मज़ा आ रहा था वो मेरे मुह को पकड़ के अपने चूत में धकेल रही थी।

मैं भी ऐसे चूस रहा था कि जैसे आज खा जाऊंगा। फिर हम 69 की पोजिशन में आ गए और वो बहोत जोर से मेरा लण्ड अंदर बाहर करने लगी। मेरा मुठ निकलने वाला है तो वो बोली मुह में ही निकाल दो। मुझे इस बात से बहोत ख़ुशी हुई। और मै उनके मुह में सारा माल गिरा दिया और वो सब पी गयी और मेरे लण्ड को भी अचे से चाट लिया थोरे देर बाद आंटी में मेरे मुह पे झर गयी। यह हिंदी सेक्स कहानी आप bhabikichudayi.onlline पर पढ़ रहे है

कुछ देर बाद मैं फिर से मूड में आ गया और आंटी का भी मूड बन गया। मैंने कहा अगर आपकी इजाजत हो तो मैं अंदर डाल दु। आंटी बोली भी क्या बात है बहोत बेसब्री हो रही है। मैंने ने बोला हा आंटी मैं आपको बहोत दिनों से चोदने की सोच रहा था लेकिन कभी मौका नही मिला। अब और इंतज़र नही होगा। उसके बाद आंटी ने मेरा टीशर्ट भी उतार दिया और मेरे पूरे बदन को चूमने लगी। जिससे मेरा लण्ड2फिर पे पूरा खरा हो चुका था।

मैंने भी उनकी नाइटी खोल दी और वो ब्लैक कलर की ब्रा पहनी हुई थी। उसे खोल दिया और उनके चुचियो को चूसने लगा। मै एक हाथ से एक को दबा रहा था तो एक को चूस रह था। उनकी चुचिया इतनी सॉफ्ट थी कि छोड़ने का मन नही कर रहा था । मैं पागलो की तरह उसके साथ खेल रहा थ। वो बोली चूसते ही रहोगे या अंदर भी डालोगे।

फिर मैंने चूत पे अपना लण्ड रख दिया और एक ही बार मे पूरा लण्ड अंदर पेल दिया।। उनके मुह आह निकली और बोली विक्की आराम से फार डालोगे क्या। मैंने बोला है आज आपकी चूत चोद के फार डालूंगा। और मैं आंटी को चोदने लगा, मै उनको पूरे जोश में चोद रहा था और वो भी मेरा साथ दिए जा रही थी। उनके मुह आह आह की आज पूरे घर में गूंज रही थी, वो बोल रही थी विक्की फ़क मी हार्डर, उनकी ये बातो से मेरा जोश और भी बढ़ रहा था।

करीब 20मिनट तक चोदने के बाद मेरा निकलने वाला था तब तक आंटी झर चुकी थी। मैंने उनसे पूछा अंदर निकाल दु क्या वो बोली है कोई दिक्कत नही। उसके बाद मैंने उस दिन उन्हें घोड़ी बना के चोदा साथ ही टंगे ऊठे के तो क़भी वो मेरे ऊपर आके। हमने लगातार 2 घण्टे चुदाई की उसके बाद मैं भी थक गया और आंटी की भी हालत खराब हो गयी।यह हिंदी सेक्स कहानी आप bhabikichudayi.onlline पर पढ़ रहे है

उनके चेहरे पे खुसी थी, वो बोली आज इतने दिनों बाद इतनी अछि चुदाई से मज़ा आ गया। वो बोली मेरे पति मुझे पूरी तरह से संतुष्ट नही कर पाते थे। आज तुम तुमने मेरे मन भर दिया। मैं बोला मैं भी कबसे सोच रहा रहा था जो आज पूरा हो गया। फिर हमने कपड़े पहने वो बोली मेरा बेटा आएगा अब मै जाती। मै आंटी कल फिर आना मम्मी कल भी नही आएगी। वो बोली क्यों नही, फिर वो चली गयी । तो दोस्तो कैसी लगी मेरी स्टोरी आप सब को मिलते इस स्टोरी के नेक्स्ट पार्ट में जिसमे मैंने अपनी गर्लफ्रैंड और आंटी को साथ मे चोदा।

ऐसी ही कुछ और कहानियाँ

Leave a Comment