टीचर ने क्लास में बन्द के चोदा, रंडी बना दिया।

Teacher Sex Story – गणित का अध्यापक निकला ठरकी मास्टर, क्लास रूम में रोक के मेरी चुदाई कर दी। मैं मजबूरन उससे चुदती रही वो मेरी चूत चोद उसका पानी अंदर छोड़ दिया। टीचर ने रंडी बना दिया।

हेल्लो दोस्तो मेरा नाम रीता है, मेरी उम्र अभी 16 साल है और मैं 11 वी में पढ़ती हूँ। मैं दिखने में काफी सुन्दर हूँ तो काफी लड़के मेरे ऊपर लाइन मरते थे। उन्ही में से एक लड़के के साथ मैं सेट हो गयी थी। उसका नाम रौशन था वो मेरे ही क्लास का था। मैं स्कूल खत्म होने के बाद अपने बॉयफ्रैंड के साथ उसके बाइक पे बैठ के जाती थी।

हम अक्सर पार्क या कही न कही मिलते रहते थे। एक शाम मैं रौशन के साथ मूवी देखने जा रही थी तभी हमारे क्लास के गणित के टीचर ने हमे देख लिया। उस वक़्त तो हम वहाँ से मुह छिपा के भाग गए क्योंकि की वो मेरे पापा से बात चीत करते रहते थे। अब लेकिन मेरे मन मे डर बैठ गया था कि कही वो मेरे पापा को बोल न दे।

अगले दिन मैं स्कूल गयी उस दिन गणित की आखिरी घंटी थी। मैं तो उनके क्लास में आते ही उसने डरने लगी थी। वो पढ़ाते हुए मुझे बोले बोर्ड पे आने के लिए। मुझे एक सवाल दे दिए और बोले बनाओ। मुझे तो वो सवाल नही आता था वो मुझे अपने बगल में खरे कर दिए। सर मुझे एकदम घूर घूर के देख रहे थे।

कुछ देर में स्कूल की छुट्टी हो गयी उसके बाद मुझे कोचिंग के लिए जाना था। लेकिन उस टीचर ने बोला कि तुम अभी रुक जाओ। सारे बच्चे चले गए उसके बाद वो मुझे बोले कि तुम्हे पढ़ाई में मन नही लगता है। तुम उस रोशन के साथ फ़िल्म देखने जाती हो। क्या मैं तुम्हरे पापा को कॉल करू की आपकी बेटी क्या क्या कर रही है।

मैं उसने डर गई और रिक्वेस्ट करने लगी कि आप पापा को कुछ नही बोलो आप जो बोलोगे मैं करूंगी। मैं बोली कि अब पढ़ाई पे ध्यन दूंगी और कभी उसके साथ नही घूमूंगी। अब वो सज़ा दोगे मुझे मंजूर है। वो बोले मैं एक शर्त पे तुम्हरे पापा को कॉल नही करूँगा।मैं बोली मुझे आपकी सारी शर्त मंजूर है। तब वो बोले तो ठीक है जाओ गेट बंद कर के आओ।

मैं बोली सर गेट क्यों बन्द करना है वो बोले जैसा जैसा मैं बोल रहा हूँ वैसा करो नही तो अभी तुम्हरे पापा को कॉल करूँगा। मैं दर के गेट बंद करने चली गयी। जब मैं गेट बन्द घूमी तो मेरी आँखें उन्हें देखती रह गयी। वो अपना लण्ड निकाल के खड़े थे। वो टेबल के सहारे खड़े होके मेरी ओर देख रहे थे। मैं उन्हें देख और डर गई वो बोले इधर आओ।

मैं डरती हुई उनके पास गई वो सीधा बोले कि मेरा लण्ड मुह में ले लो। मैं उंसने बोलने लगी कि मुझे छोड़ दें जाने दे लेकिन वो बार बार मेरे पापा को धमकी दे रहे थे। अब मजबूरन मुझे उनकी बात माननी पड़ती। मैं नीचे बैठ गयी और सर आप अपना लण्ड मेरी मुह में डाल दिये। वो अपना लण्ड मेरे मुह में डाल के पूरा अंदर बहार कर रहे थे। मेरा सिर पकर के आगे पीछे कर रहे थे।

अब सर ने मुझे उठा लिया और फिर मेरी शर्ट को खोलने लगे थे। धीरे धीरे मेरी शर्ट की सारी बटन को खोल दिये थे। मैं अंदर वाइट ब्रा में थी तो वो मेरे ब्रा में से चुचियो को बाहर निकाल दिए और जोर जोर दे दबा दबा के चुसने लगे थे। अब मैं उनके ऐसे करने से गर्म हो चुकी थी और उनको करने दे रही थी। अब सर मेरी चुचियो को दबाते हुए ऊपर आ गए और मुझे किश करने लगे थे।

अब मैं सर के साथ किस करने में मसलूल हो चुकी थी। अब मुझे भी काफी मज़ा आने लगा रहा था। सर मेरी चुचियो को तो मसल रहे थे। मेरी निप्पल को पकड़ के मसल रहे थे। वो हल्का सा दर्द मज़ा दे रहा था। मैं उनके साथ मदहोश होने लगी थी। अब सर ने मेरी शर्ट को पूरा उतार दिया। वो मुझे लेके बेंच पे लिटा दिए।

मेरे ऊपर आके मेरी बदन की चुंमने लगे थे। वो चूमते हुए नीचे गए और मेरी नाभि में किस कर दिए। मैं उनके ऐसे करने से सिहर रही थी। अब सर नीचे गए और मेरी स्कर्ट को ऊपर कर दिए। फिर उन्होंने मेरी पैंटी को नीचे खिसका दिया। अब सर मेरे चूत पे हाथ फेरने लगे थे। मैं काफी दिनों से अपने बॉयफ्रैंड से चूडी नही थी इसलिए मैं भी चुदने के लिए उत्सुक्त हो रही थी।

अब सर ने मेरी चूत पे मुह लगा दिया और मेरी चूत को चाटने लगे थे। मेरे बदन में तो एक अजीब की गुदगुदी हो रही थी। सर अपने जीभ से मेरी चूत में डाल के चाट रहे थे। उन्होंने मेरी चूत चाट चाट के गीली कर दी थी। मैं अब झरने वाली थी मैंने उनका सिर पकड़ के चूत में दबा दिया और उनके मुह पे झाड़ दिया। मेरे अंदर काफी सन्ति मिल रही थी।

लेकिन अब सर मेरी चुदाई करने को तैयार हो गए थे। अब वो मेरी पैंटी को निकाल के फेक दिए और मेरी टांगो को दोनो डेस्क प रख दिये। सर ने अपना पैंट नीचे किया और मेरी चूत पे आ गए। वो चूत पे लण्ड रक के एक बात में लण्ड को अंदर धकेल दिए। मैं आवाज करने वाली थी की उन्होंने मेरा मुह बन्द कर दिया और जोर के धके देने लगे।

उनके झटके मेरी सरीर के रोम रोम को हिला के रख दे रही थी। उस बेंच पे मैं कभी बैठ के पढ़ती थी और आज मैं उसी बेंच पे लेट के चुद रही हूँ। सर को बेच पे चुदाई करने में दिक्कत हो रहा था तो उन्होंने मुझे बाल पकड़ के उठाया और मुझे टेबल के सहारे खरा कर दिया। अब वो पीछे से मेरी चुदाई करने लगे थे। उनके लण्ड कॉफी दम था वो बहोत जोर से मेरी चुदाई कर रहे थे।

करीबन 30 मिनट तक चोदने के बाद वो मेरी चूत में झर गए। सर बहोत जोर से हाफ रहे थे। मेरी तो उन्होंने हालत खराब कर दी थी। मेरी कमर में काफी दर्द हो रहा था। अब मैंने अपना कपड़ा पहन लिया था। मुझे देर हो रही थी तो मैं बोली सर अब मैं जाऊ वो बोले रुको एक बार और करूँगा। मैं तो अब सोच में पड़ गयी कि अब क्या होगा मेरा, वो मानने वाले भी नही थे।

उन्होंने फिर से मेरी पैंटी निकाल के फेक दिए और अब मुझे क्लास में अलग अलग ले जाके चोद रहे थे। मुझे पुरे क्लास में घुमा घुमा के मेरी चुदाई कर रहे थे। आज वो क्लास को रंडीखाना बना चुके थे। उसके बाद वो फिर से झड़ गए थे। उस दिन तो मैं घर आ गयी लेकिन उस दिन के बाद से मैं उनके चंगुल में फस गयी और वो कभी क्लास में तो कभी अपने कोचिंग क्लास में चोद देते थे। उन्होंने जबर्दस्ती मुझे अपनी कोचिंग जॉइन करवाई थी। मैं अब उनकी रंडी बन चुकी थी उनका जब मन होता वो मेरी चुदाई कर देते थे।

Some Hot New Hindi Sex Story

Leave a Comment