बॉस ने ऑफिस में मेरी कर दी चुदाई

Antarvasna Sex Story – नमस्ते दोस्तो,मैं अंजलि आज आप सब सबके साथ अपने साथ हुई, पहली सेक्स की व्यथा बताने वाली हूँ। जोकि मेरे बॉस ने मेरे साथ कि। अभी मेरे मेरी उम्र 26 साल है,ये बात आज से 3 साल पहली की है।मैं अपने घर मे। सबसे बरी हूँ। तो सारी जिम्मेदारी मेरे ऊपर ही थी क्योंकि मेरे परिवार की हालत कुकब सही नही थी।

मैं अपनी पढ़ाई पूरी कर के जॉब की तलाश के थी। लेकिन कहि मुझे कोई जॉब नही मिल पा रही थी। एक दिन मेरी एक दोस्त ने बताया कि एक कंपनी में एकाउंट के काम है, क्या करोगी तुम। मुझे तो कोई भी जॉब मंजूर थी और साथ के मैं कॉमर्स से पढ़ी थी तो एकाउंट के काम मे कोई दिक्कत नही होने वाली थी। मैं अपनी दोस्त से है कह दिया उसने मेरी सिफारिश भी कर दी क्योकि वो कंपनी उसके जीजाजी के दोस्त का ही था।

अगले दिन मैं इंटरव्यू के लिए वहाँ पाउच गयी। वहाँ से मैंने पहले ही अपॉइंटमेंट ले लिया था। तो मैं सीधा आफिस में अंदर गयी और अपना परिचय दिया। वहाँ के बॉस मुझे पहचान गए और बोले बैठो और अपनी क्वालिफिकेशन दिखाओ। वो मेरे फ़ाइल को देखने लगे और मेरी ओर देख के घर भी रहे थे। मुझे बहोत अजीब लग रहा था। वो फ़ाइल देख के बोले तुम्हरी क्वालिफिकेशन बहोत अछि है और तुम भी बहोत अच्छी हो। मैं बोली मैं कुछ समझी नही तो वो बोले कि तुम बहोत सुंदर हो। ये बात सुन मुझे अच्छा भी लगा और थोड़ा अजीब भी। वो बोले काल से जॉब पे आ जाना।

कल होके मैं जॉब पे जाने लगी। मैं समय से आफिस पाउच गयी, वहाँ जाते ही वहाँ के सारे मर्द और लड़के मुझे घूर के देख रहे थे। उस आफिस में वाइट शर्ट और ब्लैक पैंट में सबको जाना था। और उस ड्रेस में मेरी फिगर कुछ ज्यादा ही दिख रही थी, क्योंकि शर्ट बहोत टाइट था।मेरी फिगर भी बहोत सेक्सी थी मेरी फिगर 32″30″34की थी
मैं दिखने में भी काफी सुंदर हूँ।

तो कोई भी मुझे के दीवान हो सकता है।। मेरे मोहल्ले के बहोत लड़के भी मेरे पीछे पड़े हुए थे लेकिन मैं किसी कोई भौ नही देती थी। मैं बॉस के केबिन में गयी और गुड मॉर्निंग सर बोला लेकिन वो बस मेरी ओर देख के धुरे जा रहे थे। मैंने फिर से उन्हें बोला तो चौक के बोले तुम आ गयी। उसके बाद उन्होंने मेरी टेबल मुझे बतायी मैं अपने काम मे लग गयी। मैं नई नई थी तो मुझे काम समझने में दिक्कत हो रही थी यो मुझे बॉस के पास बार बार जाना पर जाता था।

मेरे जो बॉस थे वो एक नंबर के ठरकी में से थे। उनकी उम्र 45 साल होगी। ऑफिस में जो भी लड़की थी उसके साथ वो कोई न कोई चेर चार करते रहते थे। मैं भी उनके केबिन में जब जाती तो वो कभी मेरा हाथ पकड़ लेते तो कभी मेरे कमर पे हाथ डाल देते तो कभी कंधे पे। मुझे ये सब अच्छा नही लगता था। लेकिन मेरी जॉब की मजबूरी मुझे रोक के रखी हुई थी। क्योंकि मैं अगर वहाँ जॉब छोर देती तो कही और जॉब मिलना बहोत मुश्किल था। इसलिए मैं सब चुप चाप से रही थी।

एक दिन ऑफिस में छुट्टी थी, मैं घर पे थी तभी बॉस का मुझे कॉल आया और वो बोले कि ऑफिस आओ जरूरी काम है एकाउंट का,
मुझे मजबूरी में जाना पड़ा। मैं ऑफिस गयी तो वहाँ कोई नही था। मुझे थोड़ा दर लगा कि मैं अकेली हूँ तभी बॉस ने अंदर से आवाज लगई आ गयी अंजलि। अंदर आ जाओ, मैं अंदर गयी और उनसे बोला क्या काम है।

वो बोले काम बताता हूं तुम बैठ जाओ। तभी वो उठे और मेरे पीछे आके मेरे कंधे पे हाथ रख के बोले, अंजलि “ई लव यू” ये सुन मैं चौक गयी। और बोली ये आप क्या कह रहे है। आप सदी सुदा है और मेरे से उम्र में भी बहोत बड़े है। वो बोले मेरी जान प्यार में कोई उम्र नही देखी जाती। मैं तुम्हे बहोत चाहता हु, मैं पहले दिन से तुम्हरा दीवाना हु। तुम मेरी हो जाओ मैं तुम्हे रानी बना के रखूंगा तुम्हे किसी चीज़ की कोई कमी नही होगी। मुझे बहोत डर लगने लगा था मैं वहाँ से जाने लगी। तभी उन्होंने मेरा हाथ पकड़ लिया और बोला आज मेरी मर्ज़ी के बिना तुम यहाँ से नही जा सकती हो।

बॉस ने मुझे सोफे पे धकेल दिया और रूम का गेट लॉक कर दिया। मैं भागने की कोसिस की लेकिन वो मुझे पकड़ लिए। वो सरीर से काफी हट्टे कट्टे थे। तो उनकी पकड़ से भाग नही सकती थी। मैं उनसे रिक्वेस्ट करने लगी कि मुझे जाने दो, मैं ऐसी लड़की नही हूँ, मुझे छोड़ दो। लेकिन वो मेरी एक न सुनने वाले थे। वो मुझे अपनी बाहों में जकड़ लिया और मुझे चूमने लगे। वो मुझे जंगली कुते की तरह काट रहे थे।

वो अपने हरामी पन को दिखा रहे थे। वो मेरे पूरे बदन को चूम रहे थे। उसके बाद उन्होंने मेरे शर्ट के कॉलर पे हाथ डाला और एक झटके में सारे बटन तोर दिया। मैं उन्हें धका दे के भागना चाह रही थी, वो मुझे दो थप्पड़ लगा के तुम चुप मेरा साथ दो नही तो मैं तुम्हे जॉब से हटा दूंगा और सबको बोल दूंगा की परमोशन के लिए तुम ये सब कर रही थी। मैं डर गई एक तो बात आप मेरी इज्जत की थी और साथ मे जॉब जाती तो मुझे कहि जॉब नही मिलता। इसिलए मैं चुप हो गयी।

उसके बाद वो मेरा शर्ट उतार दिए। अब मैं कैमीसोल और ब्लैक2 पैंट में उन्हें और पागल करने लगी। उनकी हवस चार्म सिमा पे थी,आज मुझे लग गया था इतने दिनों बची हुई जवानी आज लूटने वाली थी। वो मुझे किश करने लगे थोरे देर बाद वो अपने कापरे उतारने लगे और साथ मे मेरा कपड़ो को भी उतार दिया मैं पूरी तरह से नंगी हो गयी और बॉस भी सारे कपरे उतार के नंगे हो गए।

वो किसी जंगली भालू की तरह लग रहे थे। उन्हें सीने पे बहोत सारे बाल थे, उनके पूरे सरीर पे बाल ही बाल थे। मुझे बहोत सरम आ रही थी। वो अपने चेयर पे बैठ गए और बोले चल कुतिया अब मेरा लण्ड चूस। मैं तो उनका लण्ड देख चौक गयी 7 इंच का लंबा तगड़ा और मोटा लण्ड। मैंने चुसने से इनकार किया तो फिर एक थप्पड़ लगा दिया। और बोला चल चूस साली नही तो तेरे खैर नही। मैं डर गई और नीचे बैठ गयी और उनके लण्ड को मुह में ले लिया।

उनका लण्ड इतना मोटा था कि मेरा मुह में नही जा रहा था। बस वो मेरा बालो को पकड़ के एक बार में लण्ड अंदर घुसे दिया। मुझे खासी होने लगी लेकिन उन्हें इससे कोई मतलब नही था और बिना रुके मेरे मुह में अपने लण्ड को अंदर बाहर करने लगे। मुझे बहोत अजीब सा हो रहा था लेकिन वो ऐसे ही अंदर बाहर करते रहे और कुछ देर बाद अपना सारा रस मेरे मुह में डाल दिया।

अब वो मेरे चुचियो के साथ खेलने लगे। वो जोर जोर से मेरे चुचियो को मसल रहे थे, और काट भी रहे थे। ऐसा लग रहा था जैसे वो खा जयंगे आज मेरी चुचियो को। मैंने महसूस किया कि उनका लण्ड फिर से खड़ा हो गया है। वो अब खरे हो गया और बोले आज से पहले तुमने कभी किया है। मैंने बोली नही तो वो बोले वाह आज बहोत दिनो के बाद सील पैक चुट मिली है। उसके बाद वो मुझे सोफे पे बैठा के दिये और मेरी टैंगो को फैला दिए और अपने लण्ड को रगड़ने लगे।

पहले उन्होंने एक उंगली मेरी चुट में डाली बस मुझे दर्द होने लगा। वो उंगली को अंदर बाहर करने लगे जिससे मेरी चुट थोड़ी सी गीली हो गयी। अब वो अपने लण्ड को मेरी चूत पे टिका दिया और धीरे-धीरे लण्ड को अंदर करने लगें। जैसे जैसे लण्ड अंदर जाने लगा मेरा दर्द बरने लगा था। फिर उन्होंने एक जोर का धका मार और लण्ड पूरा अंदर चल गया। मुझे तो लगा जैसे मेरी जान हलक में आ गयी मुझे बहोत जोर से दर्द होने लगा था। मेरी सील टूट गयी थी और मेरे चुट से खून भी बाहर आने लगा।

बॉस थोरे देर रुक गए, मैं रोने लगी थी। अब वो फिर से लण्ड अंदर डाल दिये और जोर जोर से धका देना लगे। उनका लण्ड मेरी नाभि को छू रहा था, जैसे लग रहा था आज मेरी चूत फट जाएगी। उन्होंने चोदते हुए मेरी चुचियो को भी दबा रहे थे। करीब 20-25 मिनट की चुदाई के बाद वो मेरी चुट के अंदर पस्त हो गए तबतक मैं 2 बार झर चुकी थी। लेकिन अभी भी उनकी वासना ख़त्म नही हुई थी। अब उन्होंने मुझे दिलवा के सहारे खरा कर दिया। उसके बाद पीछे से लण्ड पेलने लगे। वो कभी मुझे सोफे पे लिटा के पेलते तो कभी कभी अपने टेबल पे। वो उस दिन पूरे आफिस मेरी अलग अलग जगह पर मेरी चुदाई की। मेरी हालत पस्त हो गयी थी। मैं थक के चूर हो गयी थी। वो पीछे से लण्ड पेल रहे थे और मेरी चुतरो पे थप्पड़ मार रहे थे।

उस दिन उन्होंने मेरी 5-6 बार चोदा, फिर उन्होंने मेरे लिए एक शर्ट 2 मंगया क्योंकि मेरी शर्ट की बटन टूट गयी थी। मैं जैसे तैसे कर के अपनी घर आई। उस दिन के बाद से मैं उनकी रंडी बन चुकी हूँ। साथ के उनकी पर्सनल अस्सिस्टेंट भी मेरी सैलरी भी आ गई है। वो मेरी अक्सर चुदाई करते रहते है

दोस्तों ये मेरी अन्तर्वासना की कहानी आपको कैसी लगी आप हमे कमेंट करके जरूर बातये और अगर आपको ये अन्तर्वासना हिंदी सेक्स स्टोरी पढ़कर मज़ा आया तो इस फर्स्ट टाइम सेक्स सेक्स स्टोरी को आप दोस्तों के बिच शेयर करना न भूले.

ऐसी ही कुछ और अन्तर्वासना हिंदी सेक्स कहानियाँ

Leave a Comment