कोरोना काल मे सास और दमाद की चुदाई ।

Lockdown Mein Chudai – सभी अन्तर्वासना कहानी पढ़ने वालों को मेरा नमस्कार है। मैं पवन आज फिर से अपनी एक चुदाई की कहानी पेस रहा हूँ। मेरी पिछली कहानी को आपने खूब पसन्द किया तो मैंने सोचा कि फिर से अपनी एक नई कहानी आपके साथ शेयर करू। मैं इस साइट पे बहोत सारी मज़ेदार कहानियां पढ़ चुका हूँ और अपनी कहानी भी इसी पे डालता हूँ। कहानी लिखने से पहले मैं खुद बारे में कह देता हूँ।

मैं पवन मेरी उम्र अभी 31 साल है। मेरी शादी हो चुकी है। मैं अभी मुम्बई में जॉब करता हूँ और वही रहता हूँ। मैं सेक्स को बहोत उत्सुक्त रहता होक और अपनी बीवी के साथ अक्सर सेक्स किया करता हूँ। मैं अपनी बीवी को दो साल तक चोदा उसके बाद वो एक दिन प्रेग्नेंट हो गयी। अब मेरी चुदाई के ऊपर टाला लग चुका था।

तो ये कहानी कोरोना काल के समय की जब पूरे देश भर में लॉकडौन हो गया था तब मैंने अपनी सास की चुदाई कर दी। बात कुछ यूं हुआ कि मार्च के महीने से पूरे देश मे लॉकडौन हो गया था। उस वक़्त मेरी पत्नी पेट से थी उसका 5 महीना चल रहा था। तो मेरी पत्नी की देख भाल करने के लिए उसकी माँ आ गयी थी।

अब तो लॉकडौन में कही जा नही रह था। घर मे रह रह के उग गया था लॉकडौन से पहले तो मैं कभी कभी अपने अन्दर की कामवासना को सांत करने के लिए रेड एरिया में चला जया करता था। लेकिन लॉकडौन होने ल बाद तो वहाँ जाना भी मुश्किल हो चुका था। मैं सेक्स करने के लिए तरफ रहा था।

मेरे घर में मेरी सास और पत्नी रह रही थी। अब पत्नी के साथ तो मैं सेक्स कर नही सकता था। एक दिन मेरी सास बाथरूम से नहा के निकली थी। उन्हें लगा कि मैं घर मे नही हूँ लेकिन मैं तो घर मे ही था। वो बस पेटिकोट पहन के बहार आ गयी थी। मेरी नज़र उनके ऊपर चली गई। उनका गोरा बदन देख के मैं देखता ही रह गया। सास तो मुझे देख के अंदर चली गयी लेकिन खुद की छाप मेरे मन मे छोड़ गई थी।

मेरी सास की उम्र अभी 42 साल है लेकिन वो उससे काफी कम उम्र की लगती है। उनका सरीर थोड़ा मोटा है और बदन उनका कसा हुआ था। उनकी चुचिया 38 की साइज की होगी। उनको उस दिन उस तरह देख के मेरे मन मे उनके प्रति कुछ अलग भी भाव बन गया था। मेरे मन मे। आ गया कि क्यों न मैं अपने अंदर की अन्तर्वासना को सासु मा के साथ मिटा लू। अब इसके लिए मुझे उनको सेक्स किये राज़ी करने की जरूरत थी।

मैं एक दिन हाल के टीवी देख रहा था मेरी बीवी सो चुकी थी मेरी सास आयी और बोली दामाद जी आप सोये नही अभी तक क्या बात है मैं आपको कुछ दिनों से उदास देख रही हूँ। मेरे मन मे उस वक़्त उनके प्रति प्रेम भाव जग रहा था मैंने कहा कि आप तो अपने दामाद पे ध्यन ही नही देती हो। वो क्या हुआ बताओ तो क्या दिक्कत है मैं ठीक कर देती हूँ।

मैंने अपने मन की बात कहने की सोच ली। उन्हें बोला कि जब से आपकी बेटी प्रेग्नेंट हुई तबसे मैंने सेक्स नही किया है। इतने दिनों से मैं सेक्स के लिए बहोत तड़प रहा हूँ। क्या आप मेरी इस परेसानी को दूर कर सकती हो। वो बोली मैं कैसे दूर कर सकती हूँ, मैंने कहा अब मैं किसी और औंरत क पास जाऊ तो ये सही तो नही होगा। ऊपर से अभी कोरोना का डर है तो घर से भी नही निकल सकता हूँ।

आप आज रात मेरे साथ वो सब कर लो जो आपकी बेटी करती थी। सास मेरी बात सुन के थोड़ा चौक गयी बोली मैं आपके साथ ऐसा नही कर सकती ये गलत होगा। मैंने कहा सासु जी इस मामले में गलत सही कुछ नही होता है। अगर आप मान जाओ तो आपके बेटी का घर भी सही रहेगा और आपका दामाद भी खुश होगा। वो मेरे काफी मिन्हतो के बाद मान गयी।

मैं उन्हें लेके उनके कमरे में आ गया। उनको सामने कर लिया और उनके कमर पे हाथ डाल के उनको चुम लिया। वो खड़ी थी और मै उनको किश किया जा रहा था। वो धीरे धीरे मदहोश होती जा रही थी और मेरा साथ दे रही थी।मैंने उनका पल्लू नीचे गिरा दिया और फिर उनकी चुचियो को पकड़ लिया। मैंने अब उनकी ब्लाउज को खोलना सुरु किया। वो अंदर सफेद ब्रा में थी।

अब मैं उनकी साड़ी को किचने लगा और वो घूमते हुए बेड पे जाके लेट गयी। वो अब खुले ब्लाउज और पेटिकोट में थी। मैं आज अपनी सास को पत्नी समज के चोदने वाला था। अब मैं बेड के पास गया और उनकी कदमो को चूमता हुआ उनकी जांघो से मैं उनकी कमर के पास पाउच के उनकी पेटिकोट की छोरी खोल दी। एक बार मे पेटिकोट निचे घिसका दिया। वो अंदर पैंटी नही पहनी हुई थी।

अब मैं उनकी नाभि से चूमता हुआ ऊपर गया और उनकी ब्लाउज को खोल दिया। फिर मैं अपना हाथ पीछे ले जाके उनकी ब्रा को खोल दिया। ब्रा हटाया उसकी चुचिया जुकी हुई बरीबरी खरबूजे की तरह थी। मेरे एक हाथ मे तो आ भी नही रहा था। मैं अपने दोनों हाथ से एक चुची को दबा रहा था और दूसरी को चूस रहा था। मेरे सास गर्म हो चुकी थी और अपने सीने से मुझे सता लिया था।

अब वो मेरा कपरे खोलने सुरु की 1 मिनट में मैंने अपने कपड़े उतार दिया हम दोनो अब नग्न अवस्था मे थे। मैं अब उनकी चुदाई करने को आतुर हो रहा था। उन्हें बेड पे लेता दिया। उनकी टांगें फैला दिया उनकी चूत के ऊपर बहोत बाल थे। मैंने अब अपना खड़ा लण्ड उनकी चूत पे रख दिया और जोर का धका दिया और लण्ड अंदर पेल दिया। उनके मुह से ओह्ह निकली लेकिन मैं चोदने की धुन में था और लगातार जोरदार धके देता रहा।

मेरी सास मेरे साथ चुदाई में भरपूर साथ दे रही थी। मैं काफी दिनों की कसर पूरी कर रहा था। उनकी चूत ढीली थी जिसे खुल के चोदने में बहोत मज़ा आ रहा था। करीबन 30 मिनट तक चुदाई के बाद मैं उनकी चूत में पस्त हो गया। उसके बाद हम दोनों अलग अलग तरह से दोनो को संतुष्ट कर रहे थे। मेरी सास बोली आज ऐसी चुदाई से आपने मुझे तृप्ति कर दिया है। जब मैंने मन भर चुदाई कर ली तो अपने रूम में आके सो गया। उस दिन के बाद से तो अक्सर सास को चोद लिया करता था।

Some New Sex Story In Hindi

Leave a Comment